महाराजगंज में तीन दिन से लापता अभिषेक का शव कुएं से बरामद, सनसनी

0

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के महाराजगंज थाना क्षेत्र के बलऊं पंचायत के लेरुआ गांव में तीन दिनों से गायब आठ वर्षीय बच्चे का शव रविवार की दोपहर गांव में स्थित कुएं से बरामद किया गया। बच्चे की लाश मिलने के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। इस घटना के बाद स्वजनों में कोहराम मच गया। घटना की सूचना स्थानीय लोगों ने पुलिस को दी। पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर घटना की जांच में जुट गई। मृत बच्चे की पहचान थानाक्षेत्र के बलऊं पंचायत के लेरुआ निवासी लखन साह के आठ वर्षीय पुत्र अभिषेक कुमार के रुप में हुई है। बताया जाता है कि चार मार्च यानी गुरुवार की रात अभिषेक खाना खाने के बाद घर के बाहर आग तापने गया था। इसके बाद वह देर रात तक घर नहीं लौटा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

जब स्वजन उसको बुलाने गए तो वह वहां नहीं था। काफी खोजबीन के बाद उसका कुछ पता नहीं चल पाया।जिसके बाद उसके पिता लखन साह ने पांच मार्च को महाराजगंज थाने में आवेदन देकर अज्ञात के विरुद्ध् प्राथमिकी दर्ज कराई थी। थानाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह के नेतृत्व में लगातार उस बच्चे को तलाशा जा रहा था। गुरुवार की दोपहर करीब 12 बजे गांव के ही बच्चों ने लखन साह के घर से थोड़ी दूर पर स्थित कुएं में बच्चे का शव देखा। बच्चों ने चिल्लाते हुए शव मिलने की सूचना लोगों को दी। शव मिलने की सूचना मिलते ही काफी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ कुएं के पास एकत्रित हो गई। ग्रामीणों ने इसकी सूचना थाने को दी। थानाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह, पुअनि दिलीप सिंह, राकेश कुमार सिंह, प्रमोद पटेल पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर अभिषेक का शव कुएं से निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। थानाध्यक्ष ने कहा कि अगर किसी व्यक्ति ने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया है, तो शीघ्र ही उसकी पहचान कर गिरफ्तारी की जाएगी।

बेटे का शव मिलने की सूचना मिलते ही मां, बहन हुए बेसुध :

अभिषेक का शव कुएं में मिलने की सूचना मिलते ही मां रेणु देवी एवं उसकी दोनों बहनें रोते-रोते बेसुध हो कर गिर पड़ी। आसपास की महिलाएं उन्हें सांत्वना दे रही थी। स्थानीय लोगों ने बताया कि अभिषेक चार- भाई बहनों में सबसे छोटा था। उसके पिता ईंट भट्ठा पर ट्रैक्टर चलाकर परिवार कर भरण-पाेषण करते हैं।

एक माह पूर्व लखन साह के बाइक को किया गया था आग के हवाले :

स्थानीय लोगों की मानें तो एक माह पहले लखन साह की बाइक उनके घर के बाहर खड़ी थी, जिसे शरारती तत्वों द्वारा आग के हवाले कर दिया गया था। काफी खोजबीन के बाद भी इस बात की जानकारी नहीं हो पाई थी कि घटना को किसने अंजाम दिया। उसके बाद इस तरह की घटना हुई है। हालांकि स्वजन हत्या का संदेह जाहिर कर रहे थे।