सिवान में किन्नरों ने सड़क पर उतर प्रशासन का किया घेराव

0

परवेज अख्तर/सिवान: कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बिहार में लगे लॉकडाउन को लेकर जिला प्रशासन द्वारा वैवाहिक कार्यक्रमों में लगे प्रतिबंध के खिलाफ किन्नरों ने सोमवार की दोपहर सड़क पर उतर कर प्रशासन का घेराव किया। किन्नरों ने भारी संख्या में सड़कों पर उतर कर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वही नंग धड़ंग प्रदर्शन करते हुए मौके पर डीएम व एसपी को बुलाने की मांग कर रहे थे। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर जिस तरह से जिला प्रशासन द्वारा वैवाहिक कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाया गया है। नाचने व गाने पर लगे प्रतिबंध को जल्द से जल्द नहीं हटाया गया तो किन्नरों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी हैं। किन्नरों ने जिला प्रशासन को हिदायत देते हुए कहा कि समय रहते जिला प्रशासन द्वारा वैवाहिक कार्यक्रमों में लगे नाचने व गाने पर प्रतिबंध को नहीं हटाया गया तो पूरे बिहार के किन्नर भारी संख्या में सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करेंगे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal

हालांकि पुलिस प्रशासन द्वारा किन्नरों नंग धड़ंग प्रदर्शन को देखते हुए महिला पुलिस बल को बुलाया गया। लेकिन सड़क पर उतरे किन्नर महिला पुलिस को देखते ही भड़क गए। इसके बाद भारी संख्या में पुलिस बल ने किन्नरों को समझा-बुझाकर पीछे हटा दिया।वहीं महिला पुलिस को बैरंग वापस लौटा दिया गया।किन्नरों का कहना था कि महाजन से रुपए लेकर पूरे वर्ष हम लोग पार्टी चलाते हैं। और लग्न मुहूर्त आने के बाद प्रशासन द्वारा कानून का हवाला देकर वैवाहिक कार्यक्रमों में नाचने गाने पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है।इससे प्रशासन द्वारा वैवाहिक कार्यक्रमों में नाचने गाने पर प्रतिबंध लगाने से उनके सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। भारी संख्या में पटेल चौक पर किन्नरों ने अपनी मूलभूत सुविधाओं को लेकर सड़क पर उतरने के बाद प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे।किन्नर समुदाय के लोगों को जिला प्रशासन द्वारा लॉकडाउन की स्थिति में कोई सुविधा नहीं दी जा रही है।

वही मकान मालिकों द्वारा समय पर किराए नहीं देने से कमरा खाली करने की धमकी दी जाती है। स्थानीय प्रशासन का सहयोग नहीं मिल रहा है जिससे रोजी रोजगार पर ग्रहण लग गया है। प्रशासन द्वारा शादी विवाह तिलक समारोह एवं बच्चों के जन्मदिन के मौके पर लोगों द्वारा प्रोग्राम कराया जाता है। लॉकडाउन से सभी प्रोग्राम पर ग्रहण लग गया है। इसकी सूचना के बाद मौके पर पहुंचे सदर एसडीओ व एसडीपीओ ने मौके पर पहुंचकर किन्नरों को समझा-बुझाकर मामले को शांत कराया। किन्नरों का कहना था कि प्रशासन द्वारा बारात में पूरी रात नाचने गाने की अनुमति भले ही ना दिया जाय। लेकिन बरात लगाने के लिए परीक्षावन व द्वार पूजा कराने तक की अनुमति दें। जिससे हम लोगों की रोजी रोटी चल सके। वही भूखे प्यासे सड़क पर प्रदर्शन कर रहे किन्नरों के बीच प्रशासन द्वारा बिस्किट व पेयजल की व्यवस्था कराया गया।