बिहार में 24 जनवरी तक आएगा कोरोना का पीक….AIIMS के डॉक्टर ने चेताया….अलर्ट नहीं हुए तो स्थितियां और भयावह होगी….

0

पटना: बिहार में कोरोना का संक्रमण तेजी बढ़ रहा है। 24 दिसंबर को बिहार में 10 केसेज थे जबकि कल रविवार को यह आंकड़ा बढ़कर 5 हजार के पार हो गया है। पिछले 24 घंटे में जो आंकड़ा सामने आया है वह बेहद चिंताजनक है। यदि अब भी नहीं अलर्ट हुए तो स्थितियां और भयावह हो सकती है। इस बात की जानकारी पटना एम्स के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने दी। पिछले 24 घंटे में कोरोना के जो नए मामले सामने आए हैं कोरोना के ताजा आंकड़ों पर उन्होंने भी चिंता जतायी है। उनका कहना है कि बिहार में तीसरी लहर का पीक 24 से 26 जनवरी के बीच आएगा। इस दौरान 20 हजार नए मामले आ सकते हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

पटना एम्स के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने यह भी बताया कि तीसरी लहर में बच्चे भी संक्रमित हो रहे हैं। एम्स हॉस्पिटल में अभी भी चार बच्चे एडमिट हैं। जो बच्चे अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं उनकी उम्र 6 से 15 साल के बीच है। वही मां के पॉजिटिव होने की वजह से जन्म से ही कुछ बच्चे पॉजिटिव हो रहे हैं। हालांकि यह जरूरी नहीं कि मां पॉजिटिव हो तो बच्चा भी संक्रमित हो। उन्होंने बताया कि रविवार को कोरोना से संक्रमित 6 साल के बच्चे की मौत हो गयी है। वही एम्स में अब तक 60 मरीज भर्ती हो चुके हैं जिसमें 5 की मौतें भी हो चुकी है। वही 11 मरीज अब भी ICU में हैं।

डॉ. संजीव कुमार ने बताया कि जिस तरह से कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं उसे देखते हुए सभी को सतर्क रहना होगा। यदि अब भी एलर्ट नहीं हुए तो स्थितियां और भयावह हो सकती है। कोरोना की दूसरी लहर की अपेक्षा तीसरी लहर में संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। इस बार बिहार का आर वैल्यू 4 के ऊपर है ऐसे में कहा जा सकता है कि यहां कोरोना ब्लास्ट होना तय है। यही कारण है कि बीते 17 दिनों में कोरोना के नए मामले 5 हजार गुना तेजी से बढ़ा हैं। बिहार एक बार फिर से कोरोना की गिरफ्त में आ चुका हैं ऐसे में बंदिशें और बढ़ा देनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर को लोग सीरियस नहीं ले रहे हैं। कोरोना संक्रमित होने के बावजूद लोग जांच नहीं करवा रहे हैं और ना ही होम आइसोलेट हो रहे हैं। कोरोना संक्रमित होने के बाद वे घर से बाहर निकल रहे हैं और अपना काम कर रहे हैं। ऐसे में कोरोना का प्रसार तेजी हो रहा है। इसे लेकर लोगों को भी सोचना चाहिए कि उनकी एक गलती के कारण कितने लोगों की जिन्दगी दांव पर लगी हुई है।