न्याय के लिए दर-दर भटक रहे है अपहृता के परिजन

0
girl

अपहृता की बरामदगी के लिए एसपी से लगाई गुहार

अनहोनी की जताई आशंका, थाना प्रभारी का ऑडियो रिकॉडिंग एसपी के पास पेश

घटना: चाँदपाली गाँव का

परवेज़ अख्तर/सीवान:- …और जब खुदा ही अपने रूठे हो तो दिल की जलन का क्या होगा,जब बाग़ का माली दुश्मन हो तो अहले चमन का क्या होगा।यह उक्त पंक्ति किसी और पे नही बल्कि सीवान जिले के जीरादेई थाना प्रभारी सुनील कुमार पर सटीक बैठ रही है।जहाँ शासन व प्रशासन से आम जनमानस को हमेशा न्याय की उम्मीद रहती है।और आम जनमानस को पूरा यकीन रहता है की शासन व प्रशासन से मुझे न्याय जरूर मिलेगी।लेकिन अब न्याय का ढ़िढोडा पिट रही जीरादेई थाना पुलिस से इलाके के अधिकांश आम जनमानस ऊब चुकी है। उन्हें न्याय देने के बजाए जेल भेजने की धमकी व गलत मुकदमों में फंसाने की धमकी मिल रही है।अगर आप और हम जीरादेई थाना पुलिस से न्याय मिलने की बातें करें तो यह बईमानी साबित होगी।उल्लेखनीय है की जिले के जीरादेई थाना के चाँदपाली गाँव निवासी मो.निराले ने अपनी नाबालिग पुत्री की बरामदगी के लिए एसपी नवीन चन्द्र झा से गुहार लगाई है।हांलाकि की मो.निराले ने उक्त घटना की प्राथमिकी स्थानीय जीरादेई थाना में गाँव के मो.हैदर अली उर्फ़ नशबुलैन के बिरुद्ध एक साजिश रचकर अपहरण करा देने से सम्बंधित मामला दर्ज कराया है।उधर घटना के एक सप्ताह होने को है। नाबालिगअपहृता का सुराग नही लगने से परिजनों की बेचैनी और बढ़ गई है।परिजन किसी अनहोनी की आशंका जाहिर कर रहे है।बतादें की अपहृता जो उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के बिलरियागंज स्थित जैमतुल फलाह हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करती थी जो ईद पर्व के मौके पर घर आई हुई थी।अभी उसके परिजन उसे उक्त हॉस्टल में ले जाने की तैयारी में थे की तब तक उसका अपहरण कर लिया गया।जिसका अभी तक सुराग नही लग रहा है।उधर परिजनों ने एसपी श्री झा को दिए अपने आवेदन में स्थानिये थाना प्रभारी सुनील कुमार पर मिली भगत का आरोप लगाते हुए डराने व धमकाने तथा गलत मुकदमे में फंसा देने की धमकी से सम्बंधित ऑडिओ रिकॉडिंग भी पेश किया है।जिसमे थाना प्रभारी द्वारा बोली गई अपशब्द बातें स्पष्ट रूप से सुनने को मिल रही है।बतादें की थाना प्रभारी सुनील कुमार द्वारा पीड़ित परिवार को डराने धमकाने के बाद से परिजनों की बेचैनी और बढ़ गई है।अभी परिजन अभी अपने खोई हुर्इ लाड़ली के ग़म व सुराग नही मिलने के कारण दहशत में है की थाना प्रभारी सुनील कुमार के द्वारा नाना प्रकार के टॉर्चर से आजिज है।बहरहाल मामला चाहे जो हो फिलहाल पीड़ित मो.निराले व उसके परिजन अपनी अपहृत लाड़ली के ग़म में खौफजदा की जिंदगी जीने को मजबूर है।इस बाबत पूछे जाने पर जीरादेई थाना प्रभारी सुनील कुमार ने सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है।और कहा की मुझे बदनाम करने की साजिस रची जा रही है।मेरे द्वारा किये गए काम पुरे इलाका में बोलता है।यह इलाके की जनता बतायेगी लेकिन मैं अपनी प्रशंसा खुद नही करूँगा।