आठ सूत्री मांगों को ले रसोइया संघ ने किया प्रदर्शन

0

परवेज अख्‍तर, सिवान:- बिहार राज्य रसोइया संघ के आह्वान पर गुठनी प्रखंड के सभी प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों की रसोइया अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई हैं। इस आशय की जानकारी देते हुए रसोइया संघ के जिलाध्यक्ष धर्मनाथ माली ने बताया कि महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है मगर बिहार सरकार रसोइयों को अभी भी 1250 रुपया ही मानदेय दे रही है, वह भी एक साल में मात्र 10 महीने का ही। जबकि रसोइया पूरे 12 महीना काम करते हैं। अपनी आठ सूत्री मांगों को लेकर रसोइया संघ ने सोमवार को प्रखंड मुख्यालय के बीआरसी पर धरना भी दिया तथा अपने मांगों के लिए नारेबाजी भी की। उनके मुख्य मांगों में रसोइयों की मानदेय 10 हजार रुपये करने, मृत्यु कार्यावधि में चाहे कहीं हो विद्यालय या घर उनके अनुग्रह राशि को उनके आश्रित के खाते में करने तथा आश्रित को रसोइया के पद पर बहाल करने, मध्याह्न भोजन योजना में कार्यरत सभी रसोइयों को परिचय पत्र निर्गत करने, रसोइयों को चतुर्थवर्गीय कर्मचारी का दर्जा देने, महिला रसोइयों को मातृत्व एवं विशेषावकाश देने, मतदान के दिन मतदान कर्मियों के लिए भोजन बनाने के एवज में रसोइयों को मतदान कर्मियों के भुगतान के साथ ही रसोइयों की पारिश्रमिक का भुगतान करने तथा रसोइयों को कई वर्षों से पोशाक लंबित है उसको अविलंब देने की मांग शामिल है। धरना देने वालों में शोषित समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. परमानंद गोड़, कुंती देवी, धनई भगत, सुनर राम, जितेंद्र राम, सरिता देवी,सविता देवी, तेतरी देवी ,सुनैना देवी ,जीरा देवी, सीमा देवी सहित काफी संख्या में महिला एवं पुरूष रसोइया मौजूद थे।

रसोइयों की हड़ताल से मध्याह्न भोजन प्रभावित

प्रखंड में रसोईया संघ के हड़ताल के कारण अधिकांश विद्यालयों मे सोमवार को मध्याह्न भोजन प्रभावित हुआ। ज्यादातर विद्यालयों में मध्याह्न भोजन नहीं बना। इसके कारण मध्यांतर में बच्चे भोजन के लिए अपने घर चले गए। इसका असर मध्यांतर के बाद पढ़ाई पर भी पड़ा। कई विद्यालयों में रसोई कक्ष में सुबह से ही ताला लटका रहा। वहीं कुछ विद्यालयों में रसोइया पहुंचे लेकिन उन्होंने मध्याह्न भोजन बनाने से इंकार कर दिया। आठ सूत्री मांगों को लेकर रसोइया संघ ने सोमवार से एमडीएम बनाने का बहिष्कार करने और प्रदर्शन का निर्णय एक दिन पहले ही बैठक कर ले लिया था। उत्क्रमित मध्य विद्यालय कैथवली में रसोइया अपने काम पर पहुंचे लेकिन एमडीएम नहीं बना। वहीं उत्क्रमित मध्य विद्यालय बड़गांव और मैरवा धाम समेत कई विद्यालयों में रसोइया अपनी ड्यूटी पर नहीं पहुंचे। इसी तरह कई विद्यालयों में रसोई कक्ष में ताला लटका रहा। स्वतंत्र समाज पार्टी ने रसोइया संघ के आठ सूत्री मांगों का समर्थन किया है। रसोइया संघ के प्रखंड अध्यक्ष जितेंद्र राम ने कहा कि है कि मांग पूरी होने तक आंदोलन चलता रहेगा।

Loading...