जिम ट्रेनर विक्रम और खुशबू सिंह की कहानी दिखेगी ओटीटी पर, बनेगी वेब सीरीज, प्रोडक्शन हाउस ने शुरू की तैयारी

0

पटना: इस साल की सबसे चर्चित जिम ट्रेनर गोलीकांड एक बार फिर से चर्चा में है। इस बार कोई पुलिस जांच नहीं, बल्कि इसका दूसरा कारण है। बताया जा रहा है कि तीन माह पहले जिम ट्रेनर विक्रम सिंह पर हुए कातिलाना हमले की पीछे छिपी कहानी ने फिल्म निर्माताओं को बहुत ही प्रभावित किया है। अब इस पूरी कहानी को वेब सीरीज के रूप में उतारने की तैयारी की जा रही है। इस बात की पुष्टि खुद विक्रम ने की है।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

विक्रम की मानें तो पिछले कुछ दिनों से वेब सीरीज बनाने वाले मेकर्स की टीम के लोग कॉल कर रहे हैं। 4 राउंड फोन पर बात हुई है। उसके साथ हुए वारदात और उसके पीछे की स्टोरी पर वेब सीरीज बनाने के लिए मेकर्स परमिशन मांग रहे हैं। इसके लिए जल्द टीम मिलने के लिए पटना भी आने वाली है। विक्रम की मानें तो कार्मिक कनेक्शन स्टूडियो प्राइवेट लिमिटेड की टीम ने संपर्क साधा है।

निर्माण कंपनी ने भी की पुष्टि

जिम ट्रेनर के दावों की पुष्टि निर्माण कंपनी ने भी किया है। कंपनी ने दावा किया है कि वो सिर्फ रियल घटनाओं पर की काम करती है और फिल्म बनाती है। इसलिए उससे कांटैक्ट किया गया है। बताया जा रहा है कि वेब सीरीज अंग्रेजी में बनेगी। इसके बाद हिंदी समेत कई दूसरी भाषाओं में डब कर रिलीज किया जाएगा। हालांकि, इसके लिए कोई कागजी कार्रवाई अभी तक नहीं हुई है।

बता दें, जिम ट्रेनर पर हुआ हमला इस साल राजधानी पटना का सबसे चर्चित मामला बन चुका है। इसका कवरेज लगातार मीडिया में हुआ था। कई मैगजीन में भी खबरें छपी थी। 18 सितंबर की सुबह स्कूटी से विक्रम जिम जाने के लिए पटना के गौरया स्थान के पास स्थित अपने घर से निकला था। तभी कुछ दूर आगे बढ़ते ही पहले से घात लगाए अपराधियों ने उसके ऊपर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी। इसमें कुल 5 गोली विक्रम को लगी थी। सीने से नीचे लगी एक गोली पेट के अंदर फंस गई थी। इस वजह से विक्रम की आंत फट गई। घायल हालत में ही वह खुद से स्कूटी चलाकर PMCH पहुंचा था।

अवैध संबंधों की है पूरी दास्तान

पुलिस के सामने इस कांड में विक्रम ने पटना के चर्चित फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह का नाम लिया था। फिर पुलिस ने पूरे मामले की पड़ताल की थी। SSP उपेंद्र कुमार शर्मा ने खुद इस कांड का खुलासा किया था। राजीव, खुशबू और मीहिर सिंह समेत कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। बताया गया कि हत्या की इस पूरी घटना में अवैध संबंध सबसे प्रमुख कारण था।