रोजा रोजेदारों के लिए कयामत से निजात का जरिया : मौलाना मो. नुरुद्दीन अलीमी

0

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के सदर प्रखंड के खगौरा गांव स्थित जामा मस्जिद के खतिब-व-इमाम मौलाना मोहम्मद नुरुद्दीन अलीमी ने रमजानुल मुबारक पर फजीलत बयान करते हुए कहा कि माह-ए-रमज़ान की अजमत एवं बरकत के लिए ये काफी है कि इसमें कुरान पाक नाजिल हुआ और उस शुक्र के लिए अल्लाह पाक ने पूरा महीना का रोजा फर्ज करार दिया। इस माह में शब-ए-कदर है जिसकी बेहद फजिलतें हैं। हदीस में है रमजान का पहला अशरा (10 दिन) रहमत, दूसरा अशरा मगफिरत का और तीसरा अशरा जहन्नुम से निजात का। रोजा एक ऐसी इबादत है जो तकरीबन सभी नबियों की उम्मतों पर फर्ज था। इसलिए तो अल्लाह पाक ने कुरआन मजीद में फरमाया है कि ईमान वालों जिस तरह उन पर रोजा फर्ज किया गया है उसी तरह-तरह तुम पर भी रोजा फर्ज किया गया है, ताकि इंसान परहेजगार बनकर अल्लाह की इबादत का हक अदा करें और उसके बंदों की खिदमत करें। रोज़ा हमारी बीमारियों का इलाज भी है। इसकी बरकत से इंसान के अंदर रुहानी ताकत आती है। रोजा तो बुराई के मुकाबलों में एक ढाल की हैसियत रखता है। जिस तरह ढाल से आदमी दुश्मन के वार से बच जाता है, अपने आपको बचा लेता है, उसी तरह रोजा रोजेदारों के लिए कयामत के दिन ढाल साबित होगा, उसे जहन्नुम में जाने से बचा लेगा। रोजा रखने की बरकत से रोजेदार के बदन में नूर का बहाव तेज हो जाता है, जिससे जेहन की रफ्तार भी तेज हो जाती है। अल्लाह के प्यारे रसूल ने सल्ललाहो तआला अलैहर वसल्लम ने खुशखबरी देते हुए फरमाया है जो आदमी इस महीने में दीनी भाई को सदका करेगा, उसे सारी दुनिया की दौलत सदका करने जितना सवाब मिलेगा। इसलिए हमें चाहिए कि इस माहे मुबारक में गरीब, यतीम एवं मिस्किन को ज्यादा से ज्यादा जकात, फितरा सदका दें और माह-ए-मुबारक में अपने हिस्से की नेकिया हासिल करें।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal