तरवारा के चाचोपाली विद्यालय शिक्षा समिति के चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली,मुखिया ने लगाए कई गंभीर आरोप

0
  • सोची समझी साजिश के तहत पोषक क्षेत्र के बच्चों के अभिभावकों को बगैर सूचित सूचित किए करा लिया गया चुनाव
  • हेडमास्टर के खिलाफ अभिभावकों में रोष

परवेज अख्तर/सिवान:
जिले के जी.बी.नगर थाना क्षेत्र के चाचोपाली मध्य विद्यालय में बुधवार को हुए विद्यालय शिक्षा समिति की चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली किया गया है। विद्यालय शिक्षा समिति के चुनाव में पोषक क्षेत्र के बच्चों के अभिभावकों को बगैर सूचित किए हुए सोची समझी साजिश के तहत चुनाव करा लिया गया हैं। इस मामले में पंचायत के मुखिया को भी इसकी जानकारी नहीं दी गयी हैं।पोषक क्षेत्र के अभिभावकों को बगैर सूचित किए हुए गुपचुप तरीके से चुनाव करा लिया गया। जिसको लेकर पोषक क्षेत्र के अभिभावकों में हेडमास्टर के खिलाफ रोष है। इस संबंध में गोरेयाकोठी मुखिया संघ के अध्यक्ष दिलीप कुमार तिवारी ने हेडमास्टर अमरेंद्र कुमार पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि हेडमास्टर की मनमानी से शिक्षा का मंदिर इनदिनों राजनीतिक मंच बन गया है। इस सोची समझी साजिश से बच्चों पर बुरा असर पड़ेगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

इसके पूर्व निर्वाचित विद्यालय शिक्षा समिति के सचिव सचिव के कार्यकाल में हेड मास्टर ने विद्यालय के विकास के लिए आवंटित राशि एवं एमडीएम में धांधली करने का प्रयास किया था। यही नहीं एमडीएम बनाने के लिए नियोजित किए गए रसोईया के नाम पर महिलाओं से कार्य कराया जाता है। जिसका विरोध तत्कालीन सचिव गायत्री देवी द्वारा किया जा रहा था। जिसको लेकर हेडमास्टर व सचिव के बीच हमेशा नोकझोंक होती रहती थी। हेडमास्टर की मनमानी से पोषक क्षेत्र के बच्चों को सरकार की किसी भी योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। उन्होंने बताया कि हेडमास्टर समेत  कई शिक्षक शराब के नशे विद्यालय आते हैं। इस संबंध में कई बार जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय में लिखित आवेदन दिया गया। इसके बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से अभिभावकों में रोष है।

डेढ़ माह पूर्व विद्यालय के एक शिक्षक की कोरोना काल में अत्यधिक शराब पीने से एक शिक्षक की मौत हो गयी। इस विद्यालय के पोषक क्षेत्रों के बच्चों का भविष्य भगवान भरोसे चल रहा है। उन्होंने कहा कि इनदिनों विद्यालय में कोविड-19 को लेकर विद्यालय के बच्चों की पढ़ाई पर रोक लगने से विद्यालय को हेडमास्टर ने साजिश के तहत राजनीतिक मंच बना दिया है। उन्होंने डीएम अमित कुमार पांडेय डीईओ मिथिलेश कुमार व बीईओ के के पांडेय से विद्यालय शिक्षा समिति को अभिलंब अभिलंब भंग कर नए सिरे से चुनाव कराने की मांग की है। ताकि विद्यालय के बच्चों को बेहतर शिक्षा के साथ-साथ संस्कार मिल सके। साथ ही विद्यालय के विकास के लिए आवंटित राशि में हो रही धांधली पर रोक लगाया जा सके।एलइस संबंध में हेडमास्टर अमरेंद्र कुमार से विद्यालय शिक्षा समिति के चुनाव के चुनाव के संबंध में पूछने पर उन्होंने मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया।