जिले के स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए  ग्रीन चैनल प्रोग्राम के तहत दिया गया प्रशिक्षण

0
  • सभी एएनएम और कुरियर  को ग्रीन चैनल प्रोग्राम के तहत दिया गया प्रशिक्षण
  • दवाइयां, स्वास्थ्य किट व संसाधन आसानी से उपलब्ध हो सकेंगे कुरियर के जरिए
  • केयर इंडिया के सहयोग से जिले के सभी प्रखंडों में प्रशिक्षण शिविर का आयोजन

छपरा: जिले के स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृद्ध़ करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से तमाम प्रयास किये जा रहे है। बेहतर सामुदायिक स्वास्थ्य के लिए आंगनबाड़ी केन्द्रों पर दवाओं की निर्बाध पहुंच सबसे जरूरी शर्त है। इसी को ध्यान में रखते हुए ग्रीन चैनल प्रोग्राम की परिकल्पना की गई है। आरोग्य दिवस सत्रों पर दवाओं एवं अन्य सामग्रियों की आपूर्ति श्रृंखला को सुदृढ़ करने की प्रक्रिया को सुगम बनाने के लिए इस प्रोग्राम के तहत जिले के सभी प्रखंडों में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें जिले के सभी एएनएम व कुरियर, स्टोर कीपर, कोल्ड चेन हैंडलर को ग्रीन चैनल प्रोग्राम के बारे में विस्तार जानकारी दी गयी। जिला स्तर पर भी प्रशिक्षण दिया गया। वहीं प्रखंडस्तर पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, बीएचएम, बीसीएम व केयर के प्रखंड प्रबंधक के द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। अमनौर व गड़खा में भी प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। गड़खा में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ सरबजीत कुमार, केयर बीएम प्रशांत कुमार द्वारा वही अमनौर में प्रभारी चिकित्सा पाधिकारी व केयर बीएम आदित्य राज के द्वारा ट्रेनिंग दिया गया।
स्वास्थ्य व्यवस्था को बेहतर और नर्सों को किया जा रहा सशक्त

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
ads

केयर इंडिया के डिटीएल संजय कुमार विश्वास ने बताया कि स्वास्थ्य व्यवस्था को बेहतर और नर्सों को सशक्त बनाने के लिए आरोग्य दिवस ग्रीन चैनल के विकास को बल दिया जा रहा है। इसके तहत एक ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है, जिससे नर्सों, आशा व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को सामान ढ़ोने की व्यवस्था से निजात मिलेगी। आरोग्य दिवस ग्रीन चैनल के तहत ऐसी व्यवस्था बनाई जाएगी जिससे कि इन कर्मियों को समय पर निर्बाध रूप से दवाइयां, स्वास्थ्य किट व संसाधन आसानी से उपलब्ध हो सकेंगे।

बैग में रहेगी 17 प्रकार की दवाइयां और 4 प्रकार की जांच किट

आरोग्य दिवस सत्र पर समय से दवा पहुंचे, इसके लिए कुरियर को एक बैग में 17 प्रकार की दवाइयां और चार प्रकार की जांच किट दी जाएगी। जांच किट में एचआईवी, हीमोग्लोबिन, सिफलिस और प्रेग्नेंसी टेस्ट की किट रहेगी। हर साइट पर कुरियर सुबह में कें दवा का थैला लेकर जाएंगे। यह थैला उन्हें केयर मुहैया कराएगा। उन्होंने बताया कि शाम में लौटते समय ये एएनएम से केन्द्र पर जरूरी दवाओं की सूची लेकर लौटेंगे, ताकि तुरंत उस दवा की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने बताया कि पहले एएनएम मासिक इंडेंट तैयार कर भेजती थीं, फिर उन्हें लिस्ट के मुताबिक दवाओं की आपूर्ति की प्रक्रिया की जाती थी, जिसमें विलंब हो जाता था। दवाओं की आपूर्ति निर्बाध हो, इसलिए इसका नाम ग्रीन चैनल प्रोग्राम है।

कोविड 19 प्रोटोकॉल का रखा जाएगा ख्याल

ग्रीन चैनल प्रोग्राम के नोडल व जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा ने बताया कोरोना काल में स्वास्थ्य से जुड़ी गतिविधियों के दौरान भी पूरी सतर्कता बरतनी है। मास्क का प्रयोग, दो गज की दूरी और सैनिटाइजेशन का पूरा ख्याल रखना जरूरी है। कोरोना संक्रमण के प्रति सतर्कता ही इससे बचे रहने के लिए एकमात्र समाधान है। आरोग्य दिवस पर आने वाले लाभार्थियों को भी कोरोना से बचाव की जानकारी दी जानी है। कोविड-19 के अनुरूप व्यवहारों को पालन करने के लिए प्रेरित किया जायेगा।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here