गुजरात के वलसाड शहर में लोहा की भट्ठी फटने से सीवान के दो मजदूरों की मौत

0

जिले के उगो-कुसहरा व हरिहर छ्परा के दो मजदूर है शामिल

प्रवेज़ अख्तर/सिवान-गुजरात के वलसाड शहर स्थित प्राइवेट लोहा फैक्टरी में लोहा गलाने वाली भट्टी का अचानक फटने से सीवान जिले के चार मजदूर जख्मी हो गए। जिसमें घटनास्थल पर ही दो की मौत हो गई. मरने वाले में जिले के सिसवन थाने के हरिहर छपरा गांव की चंद्रिका राम के पुत्र राजेश राम शामिल है। वहीं दूसरा आदंर थाने के उगो-कुसहरा गांव की एक मजदूर शामिल है. हरिहर छपरा गांव में जैसे ही मंगलवार की सुबह परिजनों की राजेश की मौत की मनहूस खबर मिली कि मानो पहाड़ सा टूट पड़ा।

विज्ञापन
aliahmad
vigyapann
vig
web designing

मौत की खबर सुन हरिहर छपरा गांव में मचा कोहराम

पत्नी सहित परिजन शव लेने गुजरात रवाना

यह खबर सुन पत्नी रजान्ती देवी की मानो पाव तले जमिन ही खिसक गया हो, बार-बार केकरा सहारे जियेम हम कह बेहोस हो जा रही थी। तो कहीं बच्चे, दहाड़ मारकर रो रहे थे। सबसे बड़ी बेटी की दांत पर दांत लग रहा था, तो वही दो मासूम बच्चे, पापा पापा कह कर रो रहे थे, वही दो मासूम बच्चे 10 वर्षीय अंकित कुमार, 4 वर्षीय आयुष कुमार, पापा का ही रट लगाए हुए थे, तीन बच्चो में सबसे बड़ी बेटी प्रियंका कुमारी हमारा पापा के कहीं से ला द लोग, कह-कह कर बार-बार बेहोश हो जा रही थी, वही प्रियंका कुमारी कि आज से देगी मेट्रिक का परीक्षा, कैसे परीक्षा में लिख पाएगी, सबके मन में एक ही सवाल उठ रहे थे. क्योंकि किसी समय गुजरात से राजेश का शव गांव पहुंचेगा।

घटना के बाद दो मासूम बच्चे एवं बेटी का रो-रो कर बुरा हाल

बेटी के हाथ पीला करने की हसरत रही अधूरी

राजेश बेटी की मैट्रिक का एग्जाम दिला, बेटी का हाथ पीला करना चाहते थे. आर्थिक तंगी सता रही थी. बेटी का परीक्षा, बच्चों की पढ़ाई, फिर शादी की चिन्ता को लेकर तीन माह पूर्व ही अपने रिश्तेदारों के साथ गुजरात के वलसाड शहर में मजदूरी करने गए थे. जहां उन्हें ही क्रूर काल ने अपने आगोश में ले लिया। सभी पड़ोसी, रिश्तेदार मोबाइल द्वारा समय-समय पर सूचना लेने में जुटे थे। परिजन शव लाने के लिए गुजरात रवाना हो गए थे। वही इस घटना ने पूरे गांव को झकझोर कर रख दिया है। सभी के जुबान पर एक ही बात थी कि राजेश व्यवहारिक लड़का था।