सिवान : नगर परिषद के फाइल में नहीं है चमड़ा मंडी स्थित वार्ड संख्या 28 और 37, महामारी को लेकर लोगों में दहशत

0
chamda mandi

परवेज अख्तर/सिवान:- जहां पूरा देश कोरोना वायरस जैसी महामारी से दहशत के के साए में जीने को मजबूर है। वही लॉक डाउन की स्थिति में लोग अपने- घरों में दुबके हुए हैं। सिवान में शासन व प्रशासन द्वारा गली- गली में दवा का छिड़काव कराया जा रहा है। पूरा शासन और प्रशासन इस महामारी को रोकने में लगा हुआ है। इसी कड़ी में सिवान जिला प्रशासन भी इससे निपटने के लिए काफी सजग है। नगर परिषद सिवान के द्वारा सभी मुहल्ले में चरम सीमा पर दवा का छिड़काव कराया जा रहा है। लेकिन आज तक सिवान नगर परिषद द्वारा शहर के चमड़ा मंडी स्तिथ वार्ड संख्या 28 और 37 की सुधि तक नही ली गई। जिसके कारण वहां के लोग देश मे अचानक उत्पन्न हुए महामारी के कारण काफी भयभीत नजर आ रहे हैं।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

नगर परिषद द्वारा आज तक इस मुहल्ला में दवा का छिड़काव तक नहीं कराया गया। मुहल्ला में जहां -तहां फैले कचड़ा से जहां नगर परिषद की पोल खुल रही है तो दूसरी तरफ फैले कचड़े को देख कर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि सिवान नगर परिषद जो चमड़ा मंडी में महामारी को रोकने में कितना कारगर साबित होगी। दोनों वार्डों के लोग बताते हैं कि इसकी शिकायत कई बार नगर परिषद के कनीय पदाधिकारी से लेकर वरीय पदाधिकारी तक की गई लेकिन शिकायत करने के बावजूद भी उनके कानों तक जूं नही रेंगा।लोग बताते हैं कि इसकी शिकायत जब नगर परिषद के पदाधिकारियों से की जाती है तो पदाधिकारी द्वारा सिर्फ झूठा आश्वासन देकर टालमटोल कर देते हैं। यहां बताते चलें कि चमड़ा मंडी अवस्थित मुख्य मार्ग के दोनों बगल के नाले काफी जर्जर होकर टूट गए हैं और नाली का गंदा पानी हमेसा नदी की तरह रोड के बीचो-बीच मे बहते रहता है। नाली के पानी के दुर्गंध से वहां के लोगों का जीना भी मुहाल हो गया है।वहां के लोगों द्वारा सीधा तौर पर बोला गया कि अगर लॉक डाउन की स्थिति नहीं रहती तो हम सभी रोड पर निकलकर नगर परिषद के खिलाफ धरना प्रदर्शन करते कि आखिर सिवान के सभी वार्डों में दवा का छिड़काव हो रहा है तथा इससे वंचित चमड़ा मंडी को क्यों रखा गया है ?
बहरहाल चाहे जो हो चमड़ा मंडी के वार्ड संख्या 28 और 37 में दवा का छिड़काव नहीं कराए जाने को लेकर वहां के लोगों में नगर परिषद के खिलाफ बड़े पैमाने पर आक्रोश देखा जा रहा है।