सीवान जिले में लगातार हो रही बारिश से कमोबेश सभी मोहल्लों में जलभराव

0
jal jamav

परवेज अख्तर/सिवान :- शहर समेत पूरे जिले में लगातार हो रही बारिश से पूरा इलाका पानी से भरा पड़ा है। आधे से अधिक गांव व शहर पानी से घिरा है। ग्रामीण इलाके में पानी से घिरे लोग पलायन करने को विवश है। सरयू व दाहा नदी का बढ़ता जलस्तर हालांकि खतरे के निशान से नीचे बह रहा है, बावजूद संकट बढ़ता जा रहा है। त्योहार के मौसम में लगातार हो रही बारिश से बाजार में मंदी है। लोग घरों में बंद हैं। वहीं कुछ लोग खाने के सामान के लिए इधर-उघर भटक रहे हैं। लोगों की मानें तो इस तरह की परेशानी से हर लोग डर गए हैं। अगर इसी तरह की हालत रही तो जल्द ही लोग यहां से पलायन करने लगेंगे।दाहा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से नदी किनारे रहने वालों पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। शहर में दाहा नदी के किनारे बसे शास्त्री नगर व खुरमाबाद का इलाका नदी की पानी से घिरता जा रहा है। बचाव को देखते हुए कई लोग पलायन करने को विवश हैं। इधर, शहर के कमोबेश सभी मोहल्ले में पानी भरा हुआ है। राजेन्द्र पथ, फतेहपुर बाइपास, लक्ष्मीपुर सिसवन ढाला, पुरानी किला, आसी नगर व मखदुम सराय, निराला नगर, आनंद नगर, आंबेडकर नगर में पानी जमा होने से पूरा इलाका टापू की माफिक दिख रहा है। लगातार हो रही बारिश से सड़कों पर बड़ा-बड़े गड्ढे हो गये हैं। इससे परेशानी बढ़ती जा रही है। तेज हवा व पानी से कई स्थान पर पेड़ व डालियां टूट कर बीच सड़क पर आ गिरी हैं। इससे आवागमन प्रभावित हो रहा है। शहर में डीएम आवास के सामने डाकबंगला रोड में शनिवार की रात बिजली का पोल व पेड़ की डाली के टूटकर गिरने से इलाके में पूरी रात बिजली बाधित रही। रविवार की सुबह मे जेसीबी लगाकर टूटी हुई डाली को हटाने का कार्य शुरू किया गया। बारिश की मार ने दुकानदारों के चेहरे से छिनी रौनक : बारिश से बाजार पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। त्योहार के मौसम में बारिश की मार ने दुकानदारों के चेहरे से रौनक छीन ली है। ग्रामीण इलाके के लोग कहने भर को शहर में खरीदारी के लिये पहुंच रहे हैं। दुकान में पानी घुस जाने से कई सारे दुकानदार पानी निकालने व सामान को ठीक करने में ही परेशान दिख रहे हैं। थाना रोड में फुटपाथी दुकानदारों का बैठना मुश्किल हो गया है। पीसीसी मार्केट होने के बावजूद बाजार में पानी व कीचड़ से राह चलना मुश्किल हो गया।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here