कोविड मरीजों के लिए महाराजगंज में बना है 100 बेड का डेडिकेटेड सेंटर

0
covid-19
  • ऑक्सीजन प्लांट लगा है लेकिन अबतक चालू नहीं
  • जिले के 23 स्थलों पर की जा रही है कोविड जांच

परवेज अख्तर/सिवान: वैश्विक महामारी कोविड-19 के तीसरे चरण की शुरूआत के साथ ही एक बार फिर जिले में दहशत का माहौल है। लोग अपनी सुरक्षा को लेकर सर्तक हैं और कोविड नियमों का पालन करना शुरू कर दिए हैं। इधर जिले में कोविड संक्रमण से निपटने को लेकर पड़ताल की गयी। पड़ताल के दौरान पाया गया कि जिले में कुल 23 स्थलों पर लोगों का एंटीजन कीट, ट्रूनेट व आरटीपीसीआर सैंपल लेकर जांच की जा रही है। बताया गया कि यदि एंटीजन कीट से जांच के दौरान किसी की रिपोर्ट पॉजिटिव मिलती है तो उसका त्वरित ट्रूनेट से जांच कराई जायेगी। यदि ट्रूनेट जांच में भी पॉजिटिव निकलता है तो उसके सैंपल की जांच आरटीपीसीआर लैब में कराया जाएगा। यदि इसमें भी रिपोर्ट पॉजिटिव मिलती है उसे कोविड-19 संक्रमित मानते हुए महाराजगंज स्थित डेडिकेटेड सेंटर में भर्ती किया जाएगा। बताया गया कि आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट प्राप्त होने तक एंटीजन पॉजिटिव लोगों को होम आइसोलेशन में भेजा जाएगा।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

महाराजगंज में 100 बेड का बना है कोविड डेडिकेटेड सेंटर

जिले के महाराजगंज अनुमंडलीय अस्पताल में ही कोविड डेडिकेटेड सेंटर बनाया गया हैं। यहां कुल सौ मरीजों को एक साथ रखने की व्यवस्था है। 75 बेडों पर पाइप लाइन से ऑक्सीजन की व्यवस्था कर दी गयी है जबकि अन्य पर भी शीघ्र ही लगा दी जाएगी। जबकि गंभीर स्थिति के दौरान मरीज को सदर अस्पताल स्थिति आईसीयू में भर्ती किया जाएगा।

ऑक्सीजन प्लांट तैयार लेकिन टेक्नीशियन के अभाव में बंद

सिविल सर्जन यदुवंश कुमार शर्मा ने बताया जिले में संकट के दौर में ऑक्सीजन की कमी न हो इसे लेकर जिले के सदर अस्पताल व अनुमंडलीय अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट लगाया गया है। करीब एक माह पहले इसे हैंडओवर भी कर दिया गया है बावजूद इसके टेक्नीशियन के अभाव में इसका संचालन अभी शुरू नहीं हो सका है। हालांकि इसे लेकर कई बार पत्राचार किया जा चुका है।