जमीनी विवाद में युवक की सिर कुचलकर हत्या, एक गिरफ्तार

0

परवेज अख्तर/सिवान:- जिले के बड़हरिया थाना क्षेत्र के बभनबारा अहीर टोली में मंगलवार की रात करीब आठ बजे कुछ लोगों ने शीशम के डंडे से एक युवक का सिर कुचलकर मार डाला. विदित हो कि थाना क्षेत्र के बभनबारा अहीर टोला के मुंशी चौधरी के पुत्र वैद्यनाथ यादव (36) को अज्ञात लोगों ने गांव से बाहर बांसवाड़ी में ले जाकर पहले शराब पिलायी. जब वैद्यनाथ यादव नशे में आ गया तो हमलवारों ने शीशम की मोटी लकड़ी से उसका सिर बुरी तरह कुचल दिया. जिससे वैद्यनाथ की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी. घटनास्थल पर शराब व नमकीन का रेपर बिखरा पड़ा है, जो यह साबित करता है कि हमलावरों ने पहले वैद्यनाथ को शराब पिलायी व जब वह नशे में आ गया तो उसका सिर कुचलकर मार डाला गया. इतनी बेरहमी से वैद्यनाथ का सिर कुचला गया है कि खोपड़ी का कुछ अवशेष घटनास्थल पर ही बिखरा हुआ है. परिजनों ने वैद्यनाथ यादव का सिर कुचलकर मौत के घाट उतार देने की सूचना पुलिस को दी. बुधवार की सुबह थानाध्यक्ष मनोज कुमार सहित अन्य पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल पर पहुंचकर वैद्यनाथ यादव का शव अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल, सीवान भेज दिया. साथ ही, पुलिस ने मृतक के भाई गोविंदा यादव को भी साथ लेते गयी. जिसको हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है. मृतक की मां सरस्वती देवी ने बताया कि उनका दूसरा बेटा गोविंदा यादव बड़बड़ाते हुए उनके पास पहुंचकर कहा कि कुछ लोगों ने भैया को मार डाला है. उसके बाद सभी परिजन घटनास्थल पर पहुंचे. जहां वैद्यनाथ यादव का मृत शरीर पड़ा हुआ था. मृतक की मां सरस्वती देवी ने बताया कि उनलोगों का पड़ोसियों से जमीन संबंधित विवाद चल रहा है व उसकी सारी जमीन जब्त पड़ी हुई है. परिजनों के अनुसार वैद्यनाथ यादव गत रविवार को ही अपनी पत्नी चंदा देवी, पुत्री श्रीमती कुमारी (14), पुत्र मिथिलेश कुमार (12), पुत्री गुड़िया कुमारी (10) व पुत्र रमेश कुमार (8) दिल्ली से घर आया था. इधर परिजनों ने वैद्यनाथ की हत्या के बाद पूरा परिवार डरा-सहमा हुआ है. मृतक के परिजन कुछ भी बताने में कतरा रहे हैं. वैद्यनाथ यादव की हत्या से पूरे परिजनों के चीखने-चिल्लाने से पूरा माहौल गमगीन है. मृतक की पत्नी चंदा देवी बेहोश पड़ी हैं व बच्चे उससे लिपटकर रो रहे है. मृतक की मां सरस्वती देवी अलग बैठकर रो रही हैं. मृतक के ससुर रामेश्वर चौधरी कभी बच्चों को ढ़ाढ़स बंधाते हैं तो कभी अपनी बेटी दशा पर खुद सुबुक-सुबुक कर रोने लगते हैं. वैद्यनाथ यादव सात भाइयों में तीसरे नंबर पर था. मंदबुद्धि कृष्णा यादव को छोड़कर सभी भाई दिल्ली में रहकर अपनी रोजी-रोटी कमाते हैं. परिजनों का कहना है कि गोविंदा यादव भी दिल्ली से वैद्यनाथ यादव के साथ ही आया था. इधर थानाध्यक्ष मनोज कुमार का कहना है कि पुलिस जमीनी विवाद सहित तमाम बिंदुओं पर विवेचना कर रही है. आवेदन मिलने पर मामला दर्ज कर लिया जायेगा.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal