……और जनाजे की नमाज अदा कराने से पहले जब आलिम-ए-दीन ने बेटे ओसामा से मांगी इजाजत

0
  • सुपुर्दे-ए-खाक होने के पूर्व उनके चाहने वालों ने कहा जेल से निकले थे तो गाड़ियों की निकली थी काफिला, आज चंद लोग दे रहे हैं दिखाई
  • समर्थकों में मायूसी के साथ-साथ आक्रोश भी है व्याप्त
  • निधन के बाद राजद के बड़े नेता ही बना लिए थे दूरी

परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
सूबे के चर्चित चेहरा सह राजद के पूर्व सांसद डॉ. मो. शहाबुद्दीन का पार्थिव शरीर सोमवार को दिल्ली के आईटीओ बेरुन दिल्ली गेट स्थित जदीद कब्रिस्तान में सुपुर्दे-ए-खाक किया गया. जनाजे की नमाज अदा कराने से पहले आलिम-ए-दीन ने उनके बेटे ओसामा से नमाजे जनाजा की इजाजत ली। जहां नौजवान बेटे ओसामा अपने आंखों से झलकते आंसुओं के बीच आलिम-ए-दीन को इजाजत दी। इजाजत के बाद परिजनों व शुभचिंतकों द्वारा उनके जनाजे की नमाज अदा की.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

कोर्ट व प्रशासन के सख्ती के चलते उनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव सिवान जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र के प्रतापपुर नहीं लाया जा सका. जिसको लेकर उनके समर्थकों में मायूसी के साथ-साथ आक्रोश भी देखा गया. उनका कहना है कि जब साहब बिहार के भागलपुर जेल से जमानत पर रिहा हुए थे तो उनके साथ 1500 गाड़ियों का काफिला निकला था. वही इनके निधन पर चंद लोग ही शरीक हुए. पार्टी के लिए समर्पित शहाबुद्दीन के निधन पर राजद के बड़े नेता ही दूरी बना लिए. इधर सोशल साइट पर मिली जानकारी के मुताबिक राजद के प्रदेश उपाध्यक्ष डा. तनवीर हसन एवं प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने पूर्व सांसद और राजद नेता शहाबुद्दीन के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है.

राजद नेताओं ने कहा कि दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए आदेश के बावजूद तिहाड़ जेल प्रशासन द्वारा शहाबुद्दीन के इलाज के प्रति गंभीरता नहीं दिखाई गई. उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद भी सामान्य स्तर की चिकित्सा उपलब्ध करायी गयी. स्थिति बिगड़ने के बाद उन्हें दिल्ली के दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. जबकि तीन दिन पहले ही दिल्ली हाईकोर्ट ने उनके बेहतर इलाज करवाने और इस दौरान परिवार वालों से मिलवाने का निर्देश जेल प्रशासन को दिया गया था.

मालूम हो पूर्व सांसद डॉ. मो. शहाबुद्दीन का शनिवार की सुबह निधन हो गया था. इसकी पुष्टि कई घंटों के बाद तिहाड़ जेल प्रशासन ने की थी. तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे शहाबुद्दीन को कोरोना संक्रमण के बाद दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई थी. दिल्ली हाईकोर्ट ने कोरोना से संक्रमित होने के बाद  शहाबुद्दीन को चिकित्सीय निगरानी और समुचित इलाज मुहैया कराने के लिए दिल्ली सरकार और तिहाड़ जेल प्रशासन को निर्देश दिया था.