बकाए रुपये के लिए हुई अर्जुन राम की हत्या! चार गिरफ्तार

0
rote parijan

परवेज अख्तर/सिवान : ओपी से महज 1000 फीट की दूरी पर नबीगंज बाजार में उत्तम साह के जनरल स्टोर की दुकान में बैठे युवक की बाइक सवार मड़ई साह उर्फ मिथिलेश साह द्वारा गोली मारकर हत्या किए जाने के 24 घंटे बाद भी मामले में पुलिस मुख्य हत्यारोपित को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। मामले में मृतक की मां जानकी कुंवर ने शुक्रवार को ओपी में आवेदन देकर गांव के ही रमाशंकर साह,जनरल स्टोर दुकानदार उत्तम साह और उसके छोटा भाई रोहन, अंटू सिंह और राजकुमार साह के पुत्र मिथिलेश साह उर्फ मड़ई साह को आरोपित किया है। प्राथमिकी दर्ज होते ही पुलिस तत्परता दिखाते हुए नामजद आरोपित रमाशंकर साह, उत्तम साह, रोहन साह,अंटू सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई शुरू कर दी थी, पुलिस ने संदेह के आधार पर मुख्य आरोपित मड़ई साह की मां बसंती देवी उर्फ मालती देवी, सुनील साह, बैकुंठपुर थाना क्षेत्र के धर्मबारी गांव निवासी रंजन साह एवं अन्य को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। ओपी प्रभारी रवींद्रपाल ने बताया कि जल्द ही मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वहीं हैरानी की बात यह है कि जिस तरह से इस मामले में उत्तम साह को आरोपित किया गया उससे यह साफ जाहिर होता है कि इस हत्या को सोची समझी साजिश के तहत अंजाम दिया गया है। क्योंकि उत्तम साह ने भी अर्जुन से रुपये लिए थे। फिलहाल पुलिस हर मामले की जांच कर रही है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads

ग्रामीणों ने किया हत्यारोपित के घर पर रोड़ेबाजी

शुक्रवार की सुबह पड़ौली साह टोला गांव के अर्जुन राम की मौत की खबर सुन आक्रोशित हो गए और हत्यारा मिथिलेश साह और रमाशंकर साह तथा दुकानदार उत्तम साह के दरवाजे पर पहुंचकर जमकर रोड़ेबाजी करने लगे। इस कारण कुछ देर के लिए अफरा-तफरी का माहौल कायम हो गया। भगड़द मच गई। इस घटना में कई लोक आंशिक रूप से घायल हो गए जिसमें कई कर्मचारी, पुलिस कर्मी भी शामिल थे। इस दौरान स्थिति नियंत्रण करने पहुंची पुलिस को भी ग्रामीणों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। ग्रामीण सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन करने के बाद हत्यारोपित मिथिलेश साह उर्फ मड़ई साह के दरवाजे पर शव रख जलाने की बात कह रहे थे। बाद में जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासन के काफी समझाने-बुझाने के बाद शव को अन्यत्र दाह संस्कार के लिए ले जाया गया।

शव पहुंचते ही मचा कोहराम, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

ओपी क्षेत्र के पड़ौली साह टोला निवासी विद्या राम के पुत्र अर्जुन कुमार राम के शव को पोस्टमार्टम के बाद घर शव पहुंचते ही कोहराम मच गया। उसकी मां जानकी कुंवर, बहन नीतू, भाई गणेश, रमेश एवं सोनू का रो-रोकर बुरा है। उसकी मां रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी जिसे वहां उपस्थित महिलाएं संभाल रही थी। वहीं आसपास के ग्रामीण परिजनों को सांत्वना दे रहे थे।परिजनों के चीत्कार से पूरा माहौल गमगीन हो गया था। परिजनों के चीत्कार से वहां उपस्थित लोगों की आंखें नम हो जा रहीं थीं। शव पहुंचने पर बीडीओ मो. अलाउद्दीन अंसारी, सीईओ मालती देवी, ओपी प्रभारी रवींद्रपाल, मुखिया संघ अध्यक्ष अजीत कुमार सिंह पप्पू सिंह, पूर्व मुखिया पति राम कुमार सिंह, बीडीसी सुनील सिंह ने रोते बिलखते परिजनों को सांत्वना दिलाते हुए मृतक के आश्रितों को सरकार द्वारा मिलने वाली वास्तविक मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया।htya

रुपया का लेनदेन बना हत्या का कारण

पड़ौली साह टोला निवासी विद्या राम का दूसरे पुत्र रमेश राम ने बताया कि उसका सबसे छोटा भाई अर्जुन राम गुजरात में काम करता था। दुकानदार उत्तम साह ने अपनी पत्नी की इलाज के लिए अर्जुन राम से 50 हजार रुपये मांगी थी। इसके अलावा मिथिलेश साह उर्फ मड़ई साह ने थाने में अपनी पकड़ी हुई बाइक पकड़े जाने पर अर्जुन राम से 25 हजार रुपये बाइक छुड़ाने के लिए मांगी थी। अर्जुन राम ने उत्तम साह को 50 तथा तथा मिथिलेश साह को 25 हजार रुपये दिया था। अर्जुन राम छठ पूजा में घर आया था। इस दौरान उसने इन लोगों से रुपये की मांग की थी। इसी दौरान उत्तम साह ने गुरुवार की शाम रुपये देने के बहाने अर्जुन राम को बुलाया। उसी समय उत्तम ने मिथिलेश साह को भी बुलाया। जब अर्जुन राम शाम 7.20 बजे उत्तम साह के दुकान पर जाकर बैठा ही था, तभी मिथिलेश साह ने उसके सिर में तीन गोलियां दाग दी। जिससे अर्जुन राम की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद मिथिलेश साह, उत्तम साह समेत सभी आरोपित फरार हो गए और बाजार में अफरातफरी का माहौल कायम हो गया।

शादी की खुशियां हुई काफूर, मटकोड़

पड़ौली साह टोला निवासी विद्या राम के चार पुत्र थे। इसमें दो पुत्र गणेश राम एवं रमेश राम की शादी हो चुकी थी और तीसरा पुत्र सोनू राम की शादी होने वाली थी। सोनू राम का शुक्रवार को कथा मटकोड़ था और शनिवार को गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर थाना क्षेत्र में बारात जाने वाली थी। सभी रिश्तेदार करीब-करीब घर पहुंच चुके थे। घर में खुशी का माहौल था। इसी दौरान गुरुवार की शाम सबसे छोटे भाई अर्जुन राम की हत्या हत्यारों ने गोली मार कर दी। इस घटना के बाद घर में शादी की खुशियां पलभर में काफूर हो गई। खुशी का माहौल गम में बदल गई। इस घटना से परिजन समेत ग्रामीण में काफी मर्माहत हैं। चारों ओर मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। बताया जाता है कि अर्जुन राम घर का कमाऊ सदस्य था तथा काफी मृदुभाषी तथा मिलनसार स्वाभाव का था।