पुलिस सप्ताह के समापन पर जब बिहार पुलिस के DG ने गाया-जो मैं होती राजा काली रे नगिनियां…अधिकारी झूम उठे…..

0

पटना: कला और संगीत से व्यक्ति न सिर्फ तनाव को दूर कर सकता है बल्कि अपने व्यवहार में भी बदलाव ला सकता है। कुछ इसी तरह की बात उस वक्त देखने को मिली जब बिहार के पुलिस अधिकारियों ने अपने गीत संगीत से लोगों को झूमा दिया। कार्यक्रम में बिहार के डीजी ने एक ऐसा गीत गया कि वह मौजूद लोग झूमने लगे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

दरअसल, बिहार पुलिस सप्‍ताह के समापन समारोह में उस समय लोग झूम उठे जब डीजी साहेब ने ” जो मैं होती राजा काली रे नगिनियां” गाने लगे. पटना के मिथिलेश स्‍टेड‍ियम में गीत-संगीत कार्यक्रम का आयोजन था. बिहार पुलिस सप्‍ताह के समापन के अवसर पटना के मिथिलेश स्‍टेडियम में गीत-संगीत और डांस का ऐसा संगम दिखा कि श्रोता झूमने पर मजबूर हो गए. कोई पारंगत कलाकार नहीं बल्कि राज्‍य के शीर्ष पुलिस अधिकारियों ने महफ़िल को जमाया. पुलिस अधिकारियों ने ऐसा माहौल बनाया कि लोग झूम उठे.

सीनियर आइपीएस अधिकारियों के व्‍यक्तित्‍व का वह पक्ष सामने आया जो अक्‍सर लोगों की नजरों नहीं आ पाता. शीर्ष अधिकारियों ने कार्यक्रम के दौरान मंच पर अपने गीत-संगीत और नृत्‍य से धमाल मचा दिया. हमेशा अपराध नियंत्रण में माथापच्‍ची करने वाले इन अफसर गीत-संगीत और डांस में भी किसी से कम नहीं हैं. वह केवल लाठी बंदूक चलाना ही नहीं जानते बल्कि आम लोगों की तरह वह भी नाचना गाना और मस्ती करना जानते हैं।

एक डीजी ने अपने गाने से सभी अधिकारियों को झूमा दिया। जो मैं होती राजा काली रे नग‍िनियां.. से माहौल में मस्‍ती घोल दी। कई वरीय अधिकारी मंच पर पहुंच गये. जब एक डीजी ने फिर पनिया के जहाज पर पलटनियां बनी अइह पिया गाने से भी लोगों को झूमा दिया।

इन अफसरों की मस्‍ती और ऊर्जा देखकर लगता ही नहीं कि इनके सिर पर कानून व्यवस्था को बनाए रखने का कितना बड़ा बोझ रहता है।