शंभू मांझी हत्या में शामिल अपराधी के घर हुई कुर्की जप्ती

0
kurki

27 अक्टूबर की सन्ध्या गोली मार कर हुई थी हत्या

गिरफ्तारी नहीं होने पर परिजनों ने थाना का किया था घेराव

परवेज अख्तर/सिवान:- जिले के महादेवा ओपी थाना क्षेत्र के आकोपुर गांव में बीते 27 अक्टूबर को बेखौफ अपराधियो ने गांव निवासी बबन मांझी के पुत्र शम्भू मांझी को सिर में गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया. बताते चले कि 27 अक्टूबर दीपावली के दिन सभी लोग अपने-अपने घर मे पूजा कर रहे थे. तभी शम्भू मांझी अपने घर से पूजा कर बाहर निकला घर के समीप ही कुछ लोग जुआ खेल रहे थे. शम्भू मांझी भी वही गया था तब तक अपराधियों ने उसे गोली मार दिया. घटना के बाद परिजनों ने उसे सदर अस्पताल लाया. जहा चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. घटना की सूचना पर चार थानों की पुलिस घटनास्थल पर पहुंच मामले की जांच में जुट गयी. पुलिस ने 24 घंटे में अपराधियों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया था. लेकिन गिरफ्तारी नहीं होने के बाद परिजनों व गांव वालों ने महादेवा ओपी का घेराव भी किया. इसके बाद भी गिरफ्तारी नहीं हुई. अंत मे गांव की लगभग लगभग दो दर्जन महिलाओं ने जिलाधिकारी का घेराव किया. लेकिन 40 दिन बाद भी पुलिस अपराधियो की गिरफ्तारी नहीं कर सकी. अंत में पुलिस ने उक्त थाना क्षेत्र के आकोपुर गांव में बुधवार की संध्या हत्या के मामले में फरार चल रहे आरोपी बाबू तिवारी के घर महादेवा ओपी पुलिस ने कुर्की-जब्ती की कार्रवाई की. इस दौरान पुलिस ने उसके घर से सारा सामान और घर, खिड़की के चौखट दरवाजे उखाड़कर ले गई. केस के आईओ पंकज ठाकुर ने बताया कि बाबू तिवारी हत्याकांड में वांछित है. इस मामले में शंभु मांझी के परिजनों ने बाबू तिवारी सहित तीन लोगों के खिलाफ हत्या करने की प्राथमिकी दर्ज कराई है. घटना के बाद से ही आरोपी फरार चल रहा है. कोर्ट के आदेश के बाद उसके घर की कुर्की-जब्ती की गई. इधर अभी भी आरोपियों के गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
dr faisal