दरौली प्रखंड मुख्यालय में नहीं लगी बाबा साहब की प्रतिमा, प्रशासन की रही तैनाती

0

दरौली प्रखंड मुख्यालय परिसर में मूर्ति लगाने को लेकर लोगों की उमड़ी भीड़

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के दरौली प्रखंड मुख्यालय परिसर बुधवार को अखाड़ा बना रहा। जिला प्रशासन द्वारा लगाए गए धारा 144 का उल्लंघन किया गया। सैकड़ों की संख्या में लोग बिना विभागीय स्वीकृति के बाबा साहब भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा लगाए जाने पर अड़े हुए थे और इनका नेतृत्व पार्टी कार्यकर्ता एवं भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं द्वारा किया जा रहा था, लेकिन जिला प्रशासन द्वारा सभी को रोक दिया गया।

WhatsApp Image 2023 12 06 at 8.12.39 PM

अंतत स्थानीय विधायक के हस्तक्षेप के बाद लोगों को रोका गया और सभी अपने अपने घर को चले गए। जानकारी के अनुसार दो वर्ष पूर्व से भाकपा माले द्वारा दरौली प्रखंड कार्यालय में बाबा साहेब की प्रतिमा लगाने के लिए प्रयासरत है। स्थानीय प्रशासन द्वारा बिना वरीय के अनुमति के प्रतिमा लगाने से इन्कार कर दिया गया था। इसके बाद माले कार्यकर्ताओं द्वारा छह दिसंबर को प्रतिमा लगाने का निर्णय किया गया था इसको लेकर जिला अनुमंडल पदाधिकारी सुनील कुमार द्वारा दरौली प्रखंड कार्यालय समीप बुधवार को धारा 144 लागू कर दी गई थी।

चार जगह की गई थी बैरिकेडिंग

प्रशासन की तरफ से दरौली आने वाली मैरवा-दरौली मुख्य मार्ग पर कृष्णापाली से दरौली तक चार जगह बैरिकेडिंग कर पुलिस बल एवं दंडाधिकारी की तैनाती की गई थी। इसके साथ दरौली को आने वाली सभी मुख्य सड़कों पर बैरिकेडिंग कर दंडाधिकारी की उपस्थिति में पुलिस बल को तैनात किया गया था। मोर्चे पर तैनात दिखे।

सुरक्षा व्यवस्था को ले प्रखंड प्रशासन रहा तैनात

दरौली में भीड़ को देखते हुए काफी संख्या में पुलिस पदाधिकारी एवं दंडाधिकारी की तैनाती की गई थी। इसमें एसडीओ सुनील कुमार, एसडीपीओ फिरोज आलम, डीडीसी भूपेंद्र प्रसाद यादव, डीसीएलआर शहबाज खान, दरौली बीडीओ अभिषेक कुमार चंदन, आंदर बीडीओ कुणाल कुमार, समेत काफी संख्या में पुरुष व महिला पुलिस बल की तैनाती की गई थी। इधर धार 144 लागू होने के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। यात्रियों को एक से दो किलोमीटर की दूरी पैदल तय करनी पड़ी। लोग अपने-अपने हाथों में सामान व अपने बच्चों को गोद में लेकर आते जाते दिखाई दिए। वहीं हर आने-जाने वाले लोगों पर पुलिस प्रशासन द्वारा नजर रखी जा रही थी। इस कारण आने-जाने वाले लोगों को काफी परेशानी से जूझना पड़ा।