बसंतपुर: बाइक सवारअपराधियों ने समाजवादी जनता दल के अध्यक्ष को गोलियों से किया छलनी

0
  • बाइक पर सवार अज्ञात अपराधियों ने अचानक घेर लिया और लक्ष्य कर दनादन गोलिया गोलियां दागने लगे
  • देखते-देखते सैकड़ों समर्थक घटनास्थल पर पहुंच गए
  • मौके पर पहुंची पुलिस घटना की छानबीन में जुट गयी है
  • 15 गोली दागी जुल्फीकार अली भुट्टो के शरीर पर
  • 10 से अधिक अपराधियों ने हत्या को अंजाम दिया

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के बसंतपुर थाना क्षेत्र के सामपुर बाजार स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय से जानकी नगर जाने वाली सड़क पर गुरुवार की देर शाम बेखौफ अपराधियों ने समाजवादी जनता दल के अध्यक्ष की गोली मार हत्या कर दी। शेखपुरा निवासी व समाजवादी जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष जुल्फीकार अली भुट्टो की हत्या की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस घटना की छानबीन में जुट गयी है। हालांकि अपराधियों का कोई सुराग हासिल नहीं हुआ है। इस घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल कायम हो गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ad-mukhiya

बताया जाता है कि जुल्फीकार अली भुट्टो सामपुर बाजार में खड़े हुए थे वहां से उन्हें घर के लिए निकलना था। जैसे ही वे जानकी नगर जाने वाली सड़क पर पहुंचे इसी दौरान कई बाइक पर सवार अज्ञात अपराधियों ने अचानक घेर लिया और उन्हें लक्ष्य कर दनादन गोलिया गोलियां दागने लगे। बताया जाता है कि जुल्फीकार अली भुट्टो के शरीर में करीब 15 गोली लगी है। इस हमले के बाद समाजवादी जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष गंभीर रूप से घायल होकर जमीन पर गिर गए। जिसके कुछ ही देर बाद घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गयी। जुल्फीकार अली भुट्टो की हत्या की जानकारी पूरे जिले में जगंल में आग की तरह फैल गयी। और देखते-देखते उनके सैकड़ों समर्थक घटनास्थल पर पहुंच गए। घटनास्थल पर जुटे लोगों ने बताया है कि पांच बाइक पर सवार होकर लगभग 10 से अधिक अपराधियों ने इस हत्याकांड को अंजाम दिया है।

करीब छह साल पूर्व हुई थी भाई मिन्हाज की हत्या

मिली जानकारी के अनुसार करीब 2015 में जुल्फीकार अली भुट्टो के भाई मिन्हाज की भी हत्या कर दी गयी थी। हत्या का इल्जाम शेखपुरा गांव के ही राजा खां पर लगाया गया था। इस घटना के कुछ महीनों बाद ही राजा खां की भी लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इधर जुल्फीकार अली भुट्टो की हत्या की खबर घरवालों के सुनते ही उनपर दूखों का पहाड़ टूट गया। परिजनों की चीत्कार से गांव गूंज उठा।