बसंतपुर: जवान का पार्थिव शरीर गांव पहुंचते ही माहौल हुआ गमगीन

0

गार्ड आफ आनर के साथ जवान को दी गई अंतिम विदाई

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के बसंतपुर थाना क्षेत्र के बैजुबरहोगा गांव में जवान का पार्थिव शरीर पहुंचते ही माहौल गमगीन हो गया। स्वजनों के रोने से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। वहीं जवान के अंतिम दर्शन के लिए काफी संख्या में लोगों की भीड़ दरवाजे पर उमड़ पड़ी। बताया जाता है कि बैजू बरहोगा निवासी प्रभुनाथ सिंह के पुत्र प्रशांत कुमार सिंह महाराष्ट्र के नागपुर में एयर फोर्स में जवान के रूप में कार्यरत थे। शनिवार की रात उनकी हृदयगति रुकने से मौत हो गई। सभी प्रक्रिया पूरी करने के बाद उनका पार्थिव शरीर मंगलवार को पटना एयरपोर्ट पर पहुंचा, जहां से एंबुलेंस से पैतृक गांव लाया गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

WhatsApp Image 2023 12 19 at 7.46.28 PM

उनका पार्थिव शरीर मलमलिया पहुंचते ही काफी संख्या में लोग नारे लगाते हुए पहुंच गए और वहां से स्थानीय प्रशासन की मौजूदगी में जुलूस निकाल उनके पार्थिव शरीर काे मलमालिया से गांव उनके दरवाजे पर लाया गया। इसके बाद जवानों ने ताबूत को नीचे रख भीड़ को अंतिम दर्शन का मौका दिया। वहीं जवान का पार्थिव शरीर पहुंचते ही स्वजनों के रोने से माहौल गमगीन हो गया। इस दौरान बिहटा एयरफोर्स स्टेशन से वारंट आफिसर एके शर्मा, सार्जेंट जसदैव सिंह के नेतृत्व में 45 एयरफोर्स के जवान के पार्थिव शरीर को लेकर श्मशाम घाट पहुंचे, जहां एयरफोर्स के जवानों ने मुखाग्नि से पहले गार्ड आफ आनर के साथ अंतिम सलामी दी। इसके बाद उनके 10 वर्षीय पुत्र आयुष कुमार ने मुखाग्नि दी।

चार भाइयों में सबसे छोटे थे प्रशांत :

WhatsApp Image 2023 12 19 at 7.46.27 PM 1

जवान प्रशांत कुमार सिंह चार भाइयों में सबसे छोटे थे। बड़े भाई प्रमोद कुमार सिंह आरपीएफ में हैं, दूसरे भाई प्रेम किशोर सिंह व्यवसाय करते हैं तथा तीसरे भाई प्रभात कुमार सिंह इनकम टैक्स में हैं। उनकी तीन बहन और चार भाइयों की शादी हो गई हैं। पिता प्रभुनाथ सिंह पोस्ट आफिस से सेवानिवृत्त हो चुके हैं। माता कुंती देवी गृहिणी है। उन्हें एक पुत्र तथा एक पुत्री है। पुत्र आयुष कुमार कक्षा चार में पढ़ाई करता है तथा पुत्री अंशिका कुमारी कक्षा सातवीं में पढ़ती है। जवान की मौत के बाद पत्नी अनीता देवी, मां कुंती देवी समेत अन्य स्वजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। बलिदानी जवान प्रशांत कुमार सिंह काफी मिलनसार प्रवृति के थे। वे जब भी गांव आते थे, सबसे मिलकर कुशल क्षेम पूछते थे। उनकी मौत से पूरा क्षेत्र गम में डूब गया है। उनके निधन पर अधिवक्ता राजरंजन सिंह, रजनी रंजन, हासिम अंसारी, संदेश महतो, मुखिया विजय सिंह, सरपंच संतोष सिंह, जिला मंत्री रंजीत प्रसाद समेत आदि ने शोक व्यक्त की है।जवान प्रशांत कुमार सिंह एक सप्ताह पहले ही अपने भतीजे की शादी में घर आए थे और शादी के दूसरे दिन पुनः ड्यूटी पर चले गए थे।