डॉक्टर व मरीजों के बीच बन रही खाई को दूर करने की जरुरत, समाज के लिए ही डॉक्टरों का जीवन होता है समर्पित: डॉ. रामेश्वर

0
sai hospital

श्री साई हॉस्पिटल में डॉक्टर डे पर परिचर्चा आयोजित

परवेज़ अख्तर/सीवान:- शहर के श्रीसाई मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल के तत्वावधान में डॉक्टर्स डे के अवसर पर सोमवार की दोपहर सेमिनार का आयोजन किया गया। इस संदर्भ में अस्पताल के चेयरमैन डाॅ. रामेश्वर कुमार ने कहा की चिकित्सा, स्वास्थ्य और समाज एक दूसरे से जुड़ी एक कड़ी हैं। आज हम सब ऐसे रास्ते पर खड़े हैं कि छोटी-छोटी बातों पर भी हिंसा हो रही है । जबकि कोई भी डॉक्टर यह नहीं चाहता की उसके मरीज को कुछ हो। डॉक्टरी ही एक ऐसा प्रोफेशन हैं, जिसमे डॉक्टर अपने परिवार के लिए नहीं बल्कि समाज के लिए अपना जीवन व्यतित करता है। परिचर्चा में बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन सीवान के अध्यक्ष मिथिलेश कुमार सिंह, महासचिव अरविंद कुमार पांडेय, प्रेस क्लब के अध्यक्ष कैलाश कश्यप ने कहा कि इन दिनों समाज में डॉक्टर व मरीजों के बीच रिश्ते में खाई बढ़ती जा रही है। इसके लिए दोनों पक्ष जिम्मेवार है। कुछ झोला छाप डॉक्टरों की वजह से चिकित्सा व्यवसाय बदनाम हो रहा है। मरीज डॉक्टर के पास इलाज कराने तो जा रहे है। लेकिन मरीज की हालत बिगड़ने या मरने पर उसके अभिभावक नाराज होकर मारपीट व तोड़फोड़ पर उतारु हो रहे है। इसे रोकने के लिए समाज में जागरुकता की आवश्यकता है। पहले तकनीक कम थी। इसलिए सस्ता इलाज होता था। जांच की सुविधा नहीं होने से मरीजों की मृत्यु दर ज्यादा थी। लेकिन अब तकनीक का विकास हुआ है। इसलिए मरीजों की जांच आवश्यक हो रही है। जांच के बाद दवाएं लिखने व खाने से मृत्यु दर में कमी आ रही है और मरीज भी जल्दी ठीक होते है। डॉक्टर धरती के भगवान माने जाते है। इसलिए डॉक्टरों को भी मरीजों के साथ बेहतर संबंध बनाने के लिए पहल करनी चाहिए। इस अवसर पर मेडिकल सुपरिंडेंटेंड डाॅ. केपी सिंह, डा इंद्रा साहू, ईनएटी विशेषज्ञ डॉ. एमडी शादाब, डॉ. अनिल कुमार सिंह, डाॅ. अरिंदम मुखर्जी , डाॅ. संजय कुमार, डाॅ. ज़ैनुल आबेद्दीन, डॉ. के एहतेशाम, प्रदीप कुमार सिंह, श्रीनिवास यादव, जिला अधिवक्ता संघ के सचिव शम्भुदत्त शुक्ल, अमित कुमार सिंह, डॉ. यतीन्द्र नाथ सिन्हा, तप्ती वर्मा आदि ने अपना विचार व्यक्त किए। मौजूद थे.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads