दवा व्यवसाई खुर्रम बाबू की बरामदगी को लेकर लकीर पर लाठी पीट रही है सीवान पुलिस !

0
dawa vayawasai

एसपी पहुंचे लापता खुर्रम बाबू के घर,परिजनों से की बारी-बारी से पूछताछ

खुर्रम बाबू की आने की टाह में टकटकी लगाये बैठे है परिजन

दूसरे दिन और बढ़ी परिजनों की बेचैनी

दो दिन बाद भी पुलिस की सारी तकनीकी फेल

परवेज़ अख्तर/सीवान:- सुप्रसिद्ध दवा व्यवसाई शेख मो.शाजिद उर्फ़ खुर्रम बाबू को आसमाँ खा गई या जमीं निगल गई। यह सवाल दो दिन बाद परिजनों के दिलों में कौंध रहा है। खुर्रम के घर पर उनके पुरे रिश्तेदारों का जमावड़ा लगा हुआ है। परिजन व रिश्तेदारों के चेहरे पर मायूसी छाई हुई है।साथ ही उनके आँखों से आँसुओं के कतरे थमने का नाम नही ले रही है। घर के आँगन में ऐसी सन्नाटा पसरा हुआ है की जैसे कोई बड़ी हादसा हुई हो।दो दिनों से घर के चूल्हे तक नही जले है। वही परिजनों के मोबाइल फोन पर लापता खुर्रम के हाल-चाल जानने के लिए बिदेशों में रह रहे उनके रिश्तेदार भी व्याकुल है। लेकिन दो दिन बाद उनका कोई सुराग नही लग पाया है।वही नगर थाना में अपहरण से सम्बंधित सुसंगत धाराओं में प्राथमिकी दर्ज के बाद पुलिस भी उनके बरामदगी के लिए कोई कसर नही छोड़ रही है।पुलिस द्वारा उनके बरामदगी के लिए कई विधि भी अपना रही है। लेकिन पुलिस को अभी तक कोई भी सफलता हाथ नही लगी है।उधर पुलिस द्वारा सफलता नही मिलने पर भी परिजनों की बेचैनी और बढ़ती चली जा रही है। या इसे यूँ कहा जा सकता है की लापता खुर्रम बाबू की बरामदगी के लकीर पर लाठी पीट रही है सीवान पुलिस!परिजन अंदर ही अंदर कई तरह के क्यास लगा रहे है। बतादें की शुक्रवार को लगभग 9:30 बजे दवा ब्यवसाई खुर्रम बाबू लापता हुए है। वे शहर के पुरानी किला स्तिथ मस्जिद में ईशा का नमाज अदा करने गए थे।और देर रात्रि तक वे नही लौटे।घर वापस नही लौटने पर उनके परिजन उनकी तलास में लग गए।लेकिन उनका कोई सुराग नही लगा। बाद में लापता खुर्रम के परिजनों ने इसकी सुचना नगर थाना पुुलिस को दी।जहां सुचना पाकर वरीय पुलिस पदाधिकारी के निर्देश के आलोक में नगर थाना की पुलिस सक्रिय हुई।उधर रविवार को सीवान एसपी नवीन चन्द्र झा दल-बल के साथ लापता दवा व्यवसाई खुर्रम बाबू के घर पहुँचे।

लापता खुर्रम बाबू के छोटा भाई से पूछताछ करते एसपी नवीन चन्द्र झा
लापता खुर्रम बाबू के छोटा भाई से पूछताछ करते एसपी नवीन चन्द्र झा

तथा परिजनों से बारी-बारी से पूछताछ की।और आश्वासन भी दिए।बतादे की लापता खुर्रम बाबू का सुराग नही लगने से उनकी पत्नी सगुफ्ता खातुन का रोते-रोते बुरा हश्र हो गया है। खुर्रम बाबू की माँ आशियाँ खातुन की हालत बिगड़ गई है।दो पुत्र क्रमशः मो.कैफ (17),मो.सैफ(15)व पुत्री अनम साजिदा व छोटा भाई शेख मो. शादिक समेत पूरा परिवार की हालत बिगड़ गई है।परिजनों की बिलखने की आवाज सुनकर उपस्तिथ लोग भी अपने-अपने आँसुओं को नही रोक पा रहे है।बतादें की लापता दवा ब्यवसाई खुर्रम बाबू जो सीवान जिले के जीबी नगर थाना के तरवारा पँचायत के काजी टोला के मूल निवासी है।लेकिन 10 वर्ष पूर्व वे जिला मुख्यालय में जाकर जमीन खरीद अपना आशियाना बना लिये।और वही अपना दवा का कारोबार बड़े पैमाना में शुरू की। खुर्रम बाबू के पिता शेख अजीजुररहमान उर्फ़ पहलवान जो खानदानी जमीनदार व बड़े रसूख वाले व्यक्ति थे।वर्षो पुर्व में उनकी मृत्यु हो गई है। लापता खुर्रम बाबू के छोटे पापा मोतिउररहमान उर्फ़ मोती बाबू जो पश्चिम बंगाल में एक मिठाई दूकान चलाकर खूब सोहरत हासिल की।उनका मिठाई का दूकान कोलकाता के खिदिरपुर में जनता स्विट के नाम से है। बतादें की लापता खुर्रम की बिरासत में ही रईसी मिली है।तथा सोहरत हासिल होना कई पीढ़ी से चलते आ रहा है। बहरहाल चाहे जो हो दो दिन बाद भी लापता खुर्रम बाबू का कोई सुराग नही लगा है। परिजन उनके आने की आश में टकटकी लगाये बैठे हुए है।और सीवान पुलिस बरामदगी की लकीर पर लाठी पीट रही है।