राजद के पूर्व विधायक ने अपने ही बाडीगार्ड से ऐसी हरकत की….पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल….

0

पटना: राजद के एक पूर्व विधायक सरोज यादव ने अपने ही सरकारी अंगरक्षक के साथ ऐसी हरकत कर दी कि उन्हें जेल की सलाखों के पीछे जाना पड़ा। मामला भोजपुर जिले के बड़हरा विधानसभा से जुड़ा है। बड़हरा विधानसभा के पूर्व राजद विधायक सरोज यादव को पुलिस ने मंगलवार की देर शाम गिरफ्तार कर लिया। पूर्व विधायक की गिरफ्तारी बड़हरा थाना क्षेत्र के काजीचक गांव से हो सकी। छापेमारी का नेतृत्व आरा सदर एसडीपीओ सह एएसपी हिमांशु कुमार कर रहे थे। एसपी विनय तिवारी ने इसकी पुष्टि की है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

एसपी के अनुसार पकड़े गए पूर्व विधायक पर पहले से सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने व एससी-एसटी अधिनियम का केस दर्ज हैं, जिसमें फरार चल रहे थे। इसके अलावा पंचायत चुनाव को लेकर प्रचार बंद होने के बावजूद जिला परिषद उम्मीदवार अपनी पत्नी सोशीला देवी के पक्ष में पर्चा वितरण कर जनसंपर्क अभियान चलाने का आरोप है। पुलिस ने स्कार्पियो गाड़ी को भी जब्त कर लिया। इसे लेकर अलग से आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर प्राथमिकी दर्ज किए जाने का भी आदेश दिया गया है।

पुलिस के अनुसार बड़हरा के फूहां गांव में पिछले माह पांच नवंबर को एक बच्चे की प्रियांशु की हत्या हुई थी। जिसके बाद आक्रोशित लोगों ने आरा-छपरा फोरलेन को जाम कर हाे-हंगामा भी किया था। इस दौरान पूर्व विधायक भी गए थे। आरोप है घटनास्थल से लौटते समय पूर्व विधायक द्वारा अपनी गाड़ी में पुलिस-प्रशासन के वरीय पदाधिकारियों के विरुद्ध् आपत्तिजनक टिप्पणी की जा रही थी, जिसका विरोध पूर्व विधायक के ही सरकारी अगंरक्षक सत्येन्द्र कुमार पासवान ने किया था।

अंगरक्षक का आरोप था पूर्व विधायक ने उनके साथ गाली-गलौज व मारपीट भी की। सरकारी हथियार भी छीनने का प्रयास किया गया। जान से मारने की भी धमकी दी गई। इसके बाद बाडीगार्ड ने बड़हरा थाना में पूर्व विधायक के विरुद्ध जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए दुर्व्यवहार किए जाने का केस दर्ज कराया था। पुलिस ने अंगरक्षक की शिकायत पर 17 नवंबर को एफआईआर दर्ज की थी। एसपी ने जांच में आरोप को सही पाते हुए गिरफ्तारी के आदेश दिए थे।