सिवान में 6 लाख 18 हजार जाली नोट के साथ चार गिरफ्तार

0
  • तकरीबन डेढ़ वर्षो से चल रहा था गोरेयाकोठी में जाली नोटों का गोरखधंधा
  • जाली नोट कारोबार का मास्टर माइंड निकला बंटी
  • बंटी ने छपरा से सिखा था जाली नोट का प्रिंट करने का तरीका
  • यूपी एटीएस की टीम और जिले के टीमों द्वारा की गई छापेमारी

परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ :
जिले के गोरेयाकोठी थाना क्षेत्र के अलग-अलग जगहों से पुलिस ने जाली नोट कारोबारियों को इस अवैध गोरखधंधा का भण्डाफोड़ करते हुए इसमें संलिप्त चार व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. इस संबंध में पुलिस अधीक्षक अभिनव कुमार ने प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि बीते दिनों सूचना प्राप्त हुई थी कि गोरेयाकोठी में जाली नोट का धंधा चल रहा है.जिसमे जांच चल रही थी तब तक कुछ दिन पहले यूपी में जाली नोट के साथ कुछ लोग पकड़े गये थे.जिसके बाद यूपी पुलिस अनुसंधान कर रही थी.अनुसंधान के दौरान पकड़ गये जाली नोट के कारोबारीओ के निशानदेही पर यूपी की एटीएस टीम  उस धंधे में शामिल अन्य लोगों की गिरफ्तारी के लिए सीवान पहुँची.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
ADDD

jali note

जहां पुलिस अधीक्षक अभिनव कुमार के निर्देश पर बड़हरीया पुलिस,सराय ओपी पुलिस,बसंतपुर पुलिस,जीरादेई पुलिस, गोरेयाकोठी पुलिस और एसआईटी की एक विशेष टीम गठित की गई और यूपी के एटीएस टीम और विशेष टीम द्वारा गोरेयाकोठी के अलग-अलग जगहों  प्राप्त गुप्त सूचना के सत्यापन हेतु बन्टी कुमार के घर पर छापामारी किया गया.छापामारी के क्रम में गोरेयाकोठी निवासी स्व ० राजदेव प्रसाद का पुत्र बंटी कुमार, टंडवा पिपरा निवासी गोपाल महतो का पुत्र रंजीत कुमार ,गोरेयाकोठी चमरटोली निवासी देव कुमार साह के पुत्र सुरेश कुमार और गोपालगंज जिला के मांझागढ़  मधुसरेया निवासी दशरथ यादव का पुत्र संदीप कुमार को गिरफ्तार किया गया.

jali note printer

वही उन्होंने बताया कि बंटी कुमार के पास से एक देशी लोडेड कट्टा बरामद हुआ तथा घर की तलाशी लेने पर अगला कमरा से दो प्रिन्टर ( नोट छापने का मशीन ) तथा 100 रूपये , 200 रूपये , 500 रूपये एवं 2000 रूपये का अर्द्धनिर्मित जाली नोट तथा नोट छापने का कागज बरामद हुआ. बन्टी कुमार के घर का गहन तलाशी लेने पर बैग में बण्डल बनाकर रखा हुआ 100 रूपये , 200 रूपये, 500 रूपये एवं 2000 रूपये का 6 लाख 17 हजार पांच सौ रुपये जाली नोट बरामद हुआ. छापामारी दल द्वारा गिरफ्तार व्यक्तियों के निशानदेही पर बारी – बारी से सुरेश कुमार एवं रंजीत कुमार के घर पर भी छापामारी किया गया. अब इन सब की निशानदेही पर इस गोरखधंधे में शामिल अन्य लोगों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

बंटी ने छपरा से सीखा था जाली नोट छापना

पुलिसिया पूछताछ में बन्टी कुमार ने बताया है कि वह पहले सारण जिला अन्तर्गत बनियापुर के रहने वाले एक व्यक्ति एवं गोरेयाकोठी थाना क्षेत्र के ही विभिन्न स्थानों के रहने वाले व्यक्तियों के साथ मिलकर जाली नोट छापकर बाजार में चलाने का काम करता था.वह कुछ दिन इधर – उधर छिपकर रहने के बाद नोट छापने का मशीन कागज आदि का व्यवस्था कर स्वयं अपने घर में जाली नोट छापने लगा तथा धीरे – धीरे इस कारोबार में उत्तर प्रदेश व अपने क्षेत्र के अन्य साथियों  को शामिल कर जाली नोट बाजार में चलाने लगा. इसकी सूचना मिलने पर सीवान पुलिस द्वारा गठित एक विशेष टीम द्वारा बन्टी कुमार के घर पर छापामारी कर जाली नोट छापने के इस अवैध गोरखधंधा का भण्डाफोड़ करते हुए इसमें संलिप्त चार व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. वही पुलिस ने इनलोगो के पास से काला ब्लू रंग का प्रिन्टर , रेग्युलेटरी ,अर्द्व निर्मित दो हजार रूपये का नोट 16 पेज,दोसौ रुपये का अर्द्धनिर्मित नोट 32 पेज कागज 100 रूपये का अर्द्धनिर्मित नोट 105 पेज कागज और तैयार 6 लाख17 हजार 500 रुपए जाली नोट बरामद किए गये.

डेढ़ वर्षो से चल रहा था यह गोरखधंधा

पकड़े गए चारों जाली नोट तस्करों ने यह स्वीकार किया कि हम लोगों ने तकरीबन डेढ़ वर्षो से अधिक समय से जाली नोटों का गोरख धंधा किया था जो पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश और अपने जिले सहित अन्य जिलों में इसकी कारोबार करते थे और करवाते थे.

जाली नोट का भंडाफोड़ होने के बाद क्षेत्र में मची खलबली

गोरेयाकोठी क्षेत्र में जाली नोट के भंडाफोड़ होने के बाद इस गोरखधंधे में चार लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. इस गिरफ्तारी के बाद पूरे क्षेत्र में खलबली मच गई है. लोग अपने अपने घरों में रखे गए रुपए की जांच कर रहा है कि कहीं जाली तो नहीं है.क्योंकि जाली नोट के कारोबारियों ने अपना पूरा पैर पसार रखा था और क्षेत्र में सबसे अधिक जाली नोट चलाई गई थी.