पाटलिपुत्र-गोरखपुर पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आने से गेटमैन की हुयी मौत

0
train

ट्रेन को आने के लिए गेट बंद कर साफ करने गया था चिकरेल

गेट नहीं खुलने पर स्टेशन से कर्मचारी के पहुंचने के बाद घटना की हुयी जानकारी

ट्रेन का चालक ने भी किसी आदमी के रन ओवर की दी थी सूचना

परवेज अख्तर/सिवान:- सीवान जंक्शन के पूर्वी छोर स्थित स्पेशल गेट संख्या 91 के समीप गुरुवार की रात्रि करीब 12.50 बजे गेटमैन की मौत पाटलिपुत्र-गोरखपुर पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आने से हो गयी. मृत गेट मैंन जितेंद्र कुमार गया जिले के वजीरगंज थाने के ओरैल गांव निवासी राजेंद्र प्रसाद का पुत्र था. घटना के संबंध में बताया जाता है कि रात करीब 12.45 में आरआरआई से किसी ट्रेन आने की सूचना पर गेट को बंद करने का निर्देश मिला.12.46 में गेट मैंन जितेंद्र कुमार गेट को बंद कर दिया. ट्रेन के जाने के बाद जब काफी समय तक गेट नहीं खुला तो आरआरआई से उसे फोन किया गया. लेकिन फोन रिसीव नहीं हुआ. उसके बाद स्टेशन से एक कर्मचारी को गेट पर भेजा गया. केबिन में जितेंद्र कुमार नहीं मिला. वह गेट सड़क से करीब 50 मीटर पश्चिम ट्रैक पर घायल अवस्था में मिला. इधर ट्रेन का चालक ने भी किसी व्यक्ति के ट्रेन से रन ओवर की सुचना स्टेशन मास्टर को दी थी.उसके बाद सूचना मिलते ही आरपीएफ के पदाधिकारी वृजभूषण सिंह एवं विकास कन्नौजिया मौके पर पहुंचे तथा घायल अवस्था में जितेंद्र कुमार को उपचार के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया. इलाज के दौरान ही मौत हो गयी. टीआई धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि शायद गेट बंद करने के बाद जितेंद्र चिकरेल को साफ करने गया था. वह यह नहीं समझ पाया होगा कि किस लाइन पर ट्रेन आ रही है. इस कारण ट्रेन की चपेट में आने से उसकी मौत हो गयी. इधर जीआरपी ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया. उसके बाद थाने में यूडी केश दर्ज कर मामले को दर्ज कर लिया.छपरा रेल वेलफेयर इंस्पेक्टर शिवेंद्र सिंह सूचना मिलते ही सीवान पहुंचे मथ गेटमैन की पत्नी को दाह संस्कार के लिए तत्काल दस हजार रुपये की आर्थिक मदद दिया. रेल कर्मचारियों ने भी तत्काल 26 हजार एक सौ रुपये की आर्थिक मदद दी. सदर अस्पताल के मॉर्चरी वेन से गेटमैन के शव को उसके पैतृक गांव गया को भेजा गया.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
aliahmad
vigyapann
ads