गोरेयाकोठी: हाई स्कूल से चोरों ने उड़ाया सामान

0

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के गोरेयाकोठी थाना के सानी बसंतपुर स्थित गोपाल जी प्रसाद राजकीय उच्च विद्यालय सह इंटर कॉलेज में चोरों द्वारा ताला तोड़कर स्मार्ट क्लास के लिए लगाए गए स्मार्ट टीवी, इनवर्टर एवं अनेकों सामान की चोरी कर ली गई है। महाविद्यालय के प्राचार्य द्वारा अज्ञात चोरों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

ग्रामीण क्षेत्रों के गर्भवती महिलाओं को नहीं मिल पाता है लाभ

राज्य सरकार द्वारा गर्भवती महिलाओं के मिलने वाले सरकारी सुविधाओं का लाभ कागजों में ही मील रहा है। प्रखंड के 10 पंचायत और नगर पंचायत के गर्भवती महिलाओं को इसका लाभ पूरी तरह नहीं मिल रहा है। पीएचसी से मिली जानकारी के अनुसार प्रखंड में कुल 1362 महिलाओं का प्रसव सुरक्षित तरीके से कराया गया। वही फैमिली प्लानिंग के तहत 65 महिलाओं को इसका लाभ दिया गया। जबकि, 1262 महिलाओं को प्रसव पूर्व की जानकारी उपलब्ध कराई गई। ग्रामीणों की माने तो सुदूर ग्रामीण क्षेत्र की गर्भवती महिलाएं सुविधाओं से पूरी तरह वंचित हैं। उन्हें राज्य सरकार द्वारा मिलने वाली कैल्शियम, मेडिकल कीट, फोलिक एसिड, आयरन, मेडिकल नॉलेज, काउंसलिंग व टीकाकरण से वंचित हो जाती हैं। इन क्षेत्रों में काम करने वाली एएनएम, जीएनएम, आशा व अन्य स्वास्थ्य वर्करों द्वारा घोर लापरवाही बरती जाती है। सिर्फ खानापूर्ति के नाम पर गर्भवती महिलाओं का चेकअप किया जाता है।

पीएचसी में स्वास्थ कर्मियों की है कमी

पीएचसी के प्रभारी डॉ. शब्बीर अख्तर का कहना है कि पीएचसी में 22 एएनएम, जीएनएम 5 व आशा कार्यकर्ता 132 हैं। उन्होंने कहा कि मात्र 7 डॉक्टरों के सहारे पीएचसी को संचालित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पीएचसी में स्वास्थ्य कर्मियों की भारी कमी है। जिसके लिए कई बार विभागीय अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों से कहने के बावजूद भी पीएचसी में किसी की तैनाती नहीं की हो पाई है। उनका कहना था कि चाईल्ड एक्सपर्ट, हड्डी रोग, ईएनटी, ड्रेसर, पियून की कमी है।

क्या कहते हैं सीएस

इस संबंध में सीएस डॉ. यदुवेन्द्र शर्मा का कहना था कि महिला डॉक्टर की कमी विभाग में ही होने से ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई है। हालांकि पीएचसी में अन्य कर्मियों की कमी पर ध्यान दिया जाएगा।