गुठनी: भजन के लिए उम्र की बाध्यता नहीं: आचार्य रवि प्रकाश

0
bhajan

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के गुठनी प्रखंड के बिसवार गांव में आयोजित भागवत कथा के अंतिम दिन शनिवार को कथावाचक आचार्य रविप्रकाश मिश्र ने उद्धव संवाद सुना कर लोगों को भावविभोर कर दिया। उन्होंने कथा के माध्यम से स्पष्ट किया कि ईश्वर को भक्ति प्रिय है, निष्काम प्रेम का प्रतिफल तो मोक्ष ही होता है। इसके लिए उम्र की बाध्यता नहीं है। साथ ही सकाम भक्ति से भी संसार की सभी अभिष्ट वस्तुओं को प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने श्रद्धालुओं को उद्धव संवाद सुनाकर भावविभोर कर दिया। उनका कहना था गोपियों निश्छल हृदय में भगवान इसलिए बसते थे, क्योंकि उनके हृदय में सिर्फ और सिर्फ परमात्मा कृष्ण ही बसते थे।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

वह परमात्मा के प्रेम के लिए जीवन धारण किए थे। उन्होंने बताया कि भगवान को कई बार अपने भक्तों के लिए कठोर नियम को भी बदलना पड़ता है। उन्होंने कथा में “प्रबल प्रेम के पाले पड़ कर प्रभु को नियम बदलते देखा ” भजन सुनाकर लोगों को झूमने के लिए विवश कर दिया। उन्होंने आधुनिक समाज पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उद्धव जैसे महा ज्ञानी को भी सरल, सहज, सहृदय, निस्वार्थ हृदय प्रेम वाले गोपियों और ग्वालों से हार मानना पड़ा। उन्होंने स्पष्ट किया कि भगवत प्रेम के लिए किसी भी शिक्षा और आडंबर की जरूरत नहीं है। उसके लिए बस भक्ति और प्रेम ही पर्याप्त है। इस मौके पर विनोद कुमार, राजू चौबे, मृत्युंजय कुमार, धनंजय मिश्रा, अनूप मिश्रा, संकट मोचन मिश्र, राजन मिश्र, अशोक मिश्र, जितेंद्र मिश्र, उपेंद्र कुमार, सुनील कुमार, विकास कुमार, सूरज कुमार आदि मौजूद थे।