हाल के दिनों में बिहार में EOU ने रच दिया इतिहास, ‘सिपाही’ के पास 9.5 करोड़ रुपये आय से अधिक निकला तो वहीं SP-DSP व MVI में संपत्ति जमा करने की होड़

0
Siwan Online banner

पटना: EOU के एक्शन से हड़कंप है। हाल के महीनों में ईओयू की कार्रवाई ने इतिहास रच दिया। बालू खनन में मलाई खाने के आरोप में चार डीएसपी व 2 एसपी को सस्पेंड किया गया है. उनके खिलाफ आर्थिक अपराध विभाग आगे की कार्रवाई में जुटी है। बिहार पुलिस मुख्यालय ने आरोपी सभी अधिकारियों के बारे में EOU की अब तक की कार्रवाई की विस्तृत जानकारी दी है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

पुलिस मुख्यालय ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि डेहरी के तत्कालीन अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी जो वर्तमान में निलंबित हैं उनके खिलाफ 13 अगस्त 2021 को गृह जिला गाजीपुर पालीगंज एवं पटना आवास पर छापेमारी की गई. छापेमारी एवं अनुसंधान में अब तक उनके पास एक करोड़ 22 लाख 74 हजार रुपये की चल-अचल संपत्ति जो उनके आय के ज्ञात स्रोत से करीब 77 फ़ीसदी अधिक पाई गई है।

वहीं पालीगंज के तत्कालीन एसडीपीओ तनवीर आलम जो निलंबित हैं उनके खिलाफ 2 सितंबर 2021 को बेतिया एवं पटना आवास पर छापेमारी की गई. छापेमारी में 4044813 रुपए की चल-अचल संपत्ति जो उनके आय के ज्ञात स्रोत से करीब 39 फ़ीसदी अधिक पाई गई है. भोजपुर सदर के तत्कालीन अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी जो निलंबित हैं उनके खिलाफ 4 सितंबर 2021 को पटना, नालंदा समेत तीन ठिकानों पर छापेमारी की गई . छापेमारी में 71 लाख 22 हजार ₹932 की चल-अचल संपत्ति जो उनकी आय के ज्ञात स्रोत से करीब 73 फ़ीसदी अधिक पाई गई है.भोजपुर के तत्कालीन मोटरयान निरीक्षक विनोद कुमार जो निलंबित हैं उनके खिलाफ 8 सितंबर को पटना भोजपुर एवं बक्सर के ठिकानों पर छापेमारी की गई. छापेमारी में 52 लाख 78108 रुपए की चल अचल संपत्ति उनकी आय के ज्ञात स्रोत से 154 फ़ीसदी अधिक पाई गई है।

भोजपुर के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक राकेश दुबे के ठिकानों पर 16 सितंबर को छापेमारी की गई, जिसमें पटना के गांधी पथ आनंदपुरी फ्लैट नंबर 204 सुदामा पैलेस. अभियंता नगर जलालपुर, पैतृक ग्राम सिमरिया झारखंड तथा सचिंद्र रेजिडेंसी जसीडीह समेत चार ठिकानों पर छापेमारी की गई। छापेमारी एवं अनुसंधान के क्रम में अब तक उनके पास दो करोड़ 55 लाख 49 हजार 600 रू की चल-अचल संपत्ति जो उनके आय के ज्ञात स्रोत से 90 फीसदी अधिक पाई गई है।

सबसे आश्चर्य की बात तो यह कि बिहार पुलिस का एक सिपाही संपत्ति में सबसे आगे निकल गया। बिहार पुलिस मेंस एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेंद्र कुमार धीरज हैं. उनके खिलाफ 21 सितंबर को छापेमारी की गई. कुल 9 ठिकानों पर छापेमारी में 9 करोड़ 45 लाख 66 हजार सात सौ ₹45 की चल अचल संपत्ति जो उनकी आय के ज्ञात स्रोत से करीब 544 फीसदी अधिक पाई गई है।