बिहार बोर्ड 12वीं में मधु, सुगंधा और सोनाली टॉपर

0

पटना: बिहार बोर्ड ने शुक्रवार को इंटर का रिजल्ट जारी कर दिया। बिहार बोर्ड के पटना स्थित मुख्‍यालय में शिक्षा मंत्री विजय चौधरी और अपर मुख्य शिक्षा सचिव संजय कुमार एवं बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्‍यक्ष आनन्द किशोर की मौजूदगी में साइंस, आर्ट्स और कॉमर्स तीनों संकाय के परिणाम जारी किए गए। इसबार 78.4 प्रतिशत छात्र-छात्राओं ने परीक्षा में सफलता पाई है। तीनों संकायों में लड़कियों ने बाजी मारी है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM
WhatsApp Image 2022-09-27 at 9.29.39 PM

नालंदा की सोनाली साइंस टॉपर

आर्ट्स में 77.97, विज्ञान में 76% और कमर्स का परिणाम 91.48 प्रतिशत रहा। नालंदा की सोनाली कुमारी साइंस की टॉपर बनी हैं। इसी तरह कामर्स में सुगन्धा तो कला में खगडिया की मधु और सिमुलतला के कैलाश कुमार टॉपर बने हैं। छात्र वेबसाइट http://inter.onlinebseb.in/ पर जाकर परिणाम देख सकते हैं। रिजल्ट देखने के लिए बेवसाइट पर रोल नंबर व जन्मतिथि की जानकारी देनी होगी। बता दें कि इसी साल एक से 13 फरवरी के बीच इंटर की परीक्षा आयोजित की गई थी।

उम्मीद के मुताबिक बेहतर रहा परिणाम

re

इस बार कुल 13 लाख 50 हजार 233 छात्र और छात्राओं ने इंटर की परीक्षा में शामिल होने के लिए फॉर्म भरा था। साइंस आर्ट्स और कॉमर्स तीनों स्ट्रीम मिलाकर करीब साढ़े 13 लाख से अधिक छात्र और छात्राओं ने परीक्षा के लिए फॉर्म भरे थे। साइंस, आर्ट्स और कॉमर्स तीनों संकाय के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। बोर्ड की वेबसाइट http://inter.onlinebseb.in/ पर जाकर रिजल्ट देखा जा सकता है। अगर साइट न खुले तो थोड़ा समय दें। बड़ी संख्या में छात्रों के साइट पर विजिट करने से बोर्ड की साइट ओपन होने में समय लग जाता है। पिछले साल बिहार बोर्ड ने 25 मार्च को परिणाम जारी किए थे। इस लिहाज से इसबार बोर्ड रिजल्ट जारी करने में एक दिन लेट हो गया। उम्मीद के मुताबिक इसबार बिहार बोर्ड का परिणाम बेहतर रहा है। कोविड के कारण छात्रों ने घर पर रहकर ही पढ़ाई की मगर अंक अच्छे लाए।

नाम में गलती तो सुधार का है मौका

गौरतलब है कि बोर्ड के परिणाम जारी होने के बाद कुछ छात्रों के नाम वो रोल नंबर में गलती है जाती है। ऐसे में निराश होने की जरूरत नहीं है। अगर छात्र की मार्कशीट में नाम, रोल नंबर या कोई और गलती है तो उसको सुधारा जा सकता है। बोर्ड इसके लिए तिथि निर्धारित करता है। छात्र अपने स्कूल से भी संपर्क कर सकते हैं।