महाराजगंज: तोड़ी गई एक दर्जन शराब भट्ठियां, 25 हजार लीटर जावा महुआ नष्ट

0
sharab baramad in siwan

परवेज अख्तर/सिवान: महाराजगंज शराब के खिलाफ चलाए गए छापेमारी अभियान में हजारों लीटर देसी महुआ के साथ अवैध रूप से संचालित शराब भट्ठियों को ध्वस्त किया गया. सोमवार की सुबह एएलटीएफ मद्य निषेध विभाग एवं स्थानीय पुलिस के द्वारा संयुक्त कार्रवाई करते हुए महाराजगंज थाना क्षेत्र के बलिया नट टोला आदि जगहों पर छापेमारी अभियान चलाया गया. बलिया गांव स्थित नट टोला में प्रवेश करते हुए पुलिस ने कच्ची शराब बनाने के लिए लगाई गई भट्ठियों को नष्ट किया. इस मौके पर थानाध्यक्ष रणधीर कुमार, एएलटीएफ के 6 नबंर प्रभारी परवेज आलम, एसआई ज्ञान प्रकाश कुमार, एएसआई विनोद यादव ने बलिया गांव स्थित नट टोला में संचालित हो रहे करीब एक दर्जन शराब भट्ठियां तोड़ी गयी और 3000 लीटर देसी जावा महुआ को नष्ट किया गया.

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

वहीं 100 लीटर देसी महुआ शराब बरामद की गयी. हालांकि मौके से शराब तस्कर भागने में सफल रहे. थानाध्यक्ष रणधीर कुमार ने बताया कि शराब माफिया पर नकेल कसने को लेकर उक्त गांव महुआ शराब के खिलाफ अभियान चलाया गया. बताया जाता है कि बलिया गांव स्थित नट टोला में अवैध महुआ शराब का कारोबार बड़े पैमाने चलता है. यहां तैयार महुआ दारु पूरे क्षेत्र में सप्लाई की जाती है. इस गांव में पिछले कई वर्षों से पुलिस लगातार छापामारी कर रही है. लेकिन महुआ दारु के अवैध कारोबार पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रही है. इधर सोमवार कि सुबह गांव में प्रवेश करते हुए पुलिस ने कच्ची शराब बनाने के लिए लगाई गई भट्ठियों को नष्ट किया.इस संबंध मे एएलटीएफ 6 नंबंर के प्रभारी मो. परवेज आलम ने बताया कि गुप्त सूचना मिली कि बलिया नट टोला मे अवैध देसी शराब की भट्ठी संचालित किया जा रहा है. सूचना के आधार पर उक्त गांव मे छापेमारी कि गई.

जहां करीब एक दर्जन देसी शराब भठ्ठियों को तोड़ा गया. बर्तन व ड्राम जब्त किया गया.तीस हजार लीटर जावा महुआ पास नष्ट किया गया. 100 लीटर देसी शराब बरामद किया गया. पुलिस इस मामले में धंधेबाजों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई कर रही है. लंबे समय के बाद हुई पुलिस की इस बड़ी कारवाई से शराब के धंधेबाज सकते में आ गए है.वहीं शराब के खिलाफ चलाए जा रहे छापेमारी अभियान में तकनीकी परेशानी का सामना करना पड़ता है. परिणाम स्वरूप इस धंधे में लिप्त कारोबारी फरार होने में सफल हो जा रहे हैं.