महाराजगंज: माहे रमजान के तीसरे जुमे पर भी मस्जिदें रही वीरान

0
masjid

परवेज अख्तर/सिवान: रमजान उल मुबारक के इस पाक महीने में तीसरे जुमा पर भी लोगों को मस्जिदों मे नमाज अदा करने का मौका नहीं मिला. रोजेदारों ने घरों में ही नमाज-ए-जोहर (दोपहर की समान्य नमाज) अदा की और देश में अमन चैन तथा वैश्विक महामारी कोरोना से मुक्ति के लिए दुआएं मांगी. आम तौर पर जुमा में मस्जिदें गुलजार हो उठती थी. रमजान के जुमा में तो जगहें कम पड़ जाती थी. कोरोना काल मे पाबंदी के कारण मस्जिदें वीरान और उनको जाने वाले रास्ते सूने रहे.रोजदार घरों मे ही अकीदत और शिद्दत से इबादत कर रहे है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

मस्जिदें बंद रहने के कारण पांच वक्त की नमाज मस्जिद की बजाय घरों से ही अदा की जा रही है. पहले व दुसरे जुमा के साथ ही इस जुमा पर भी शहर के पुरानी बाजार स्थित शाही जामा मस्जिद के इमाम मौलाना इसरारुल हक ने अकीदतमंदों को नमाज के लिए मस्जिदों में न जाएं. मस्जिद मे जाने के बजाएं घरों में नमाज अदा कर अल्लाह से दुआ करें कि जल्द से जल्द कोरोना का खात्मा हो. सभी की सेहत के लिए भी दुआएं करे. कोरोना महामारी के चलते मस्जिदों में ताले लटके रहे. घरों में भी लोगों ने शारीरिक दूरी का ध्यान रखा गया. पाबंदी के कारण मस्जिदों से केवल अजान हो रही है.