महाराजगंज: जीएनएम व फार्मासिस्ट के छात्राओं ने भोजन को लेकर किया हंगामा

0
dharna

परवेज अख्तर/सिवान: महाराजगंज अनुमंडलीय शहर स्थित प्रतिष्ठित स्वास्थ्य प्रशिक्षण संस्थान महाराजगंज जीएनएम व फार्मासिस्ट कॉलेज अस्पताल में प्रशिक्षण ले रही छात्राएं घटिया भोजन व अन्य लच्चर व्यवस्था को लेकर संस्थान के प्रंगण में जम कर बवाल काटा. छात्रों का कहना था कि मेस में घटिया खाना मिलता है उसका भी कोई समय सारिणी नहीं है. आज शनिवार के दिन 11:30 बजे पूर्वाह्न तक नास्ता या खाना नहीं मिला है हम लोग अपने पास से दो-दो बिस्कुट कहा कर अभी तक हैं. हम लोगों को सप्लाई या आरओ का पानी नहीं मिलता है. चापाकल के पानी को पीने और स्नान करने के उपयोग में लाते हैं. महाराजगंज जीएनएम की प्राचार्य कुमारी मोना ने बताया कि होस्टल के मेस के कॉन्ट्रेक्टर से बातचीत हुई बोला कि हमको मेस चलाने में घटा लग रहा है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

मैं बोली सीएस से बात कर कुछ सोंचा जाएगा. बताया जाता है कि इस प्रतिष्ठान में गरीब गुरबों व कमज़ोर आय वाले परिवारों की बेटियां भी अपनी प्रतिभा के दम पर प्रतियोगी परीक्षा पास कर नर्सिंग की औपचारिक पढ़ाई करने आयी हैं. लेकिन जीएनएम व फार्मासिस्ट प्रशिक्षण संस्थान में इस तरह की लापरवाही रही तो कैसे गरीब-गुरबा की बच्चियां सफलता पाएंगी. छात्रा साक्षी सिंह, सौभागनी कुमारी, राजनी कुमारी, कोमल, सुभी, नेहा, रचना, श्यामा, निभा, सृष्टि, रूबी, रूपाली, पूजा, ज्योती, मनीषा, मेनका, काजल, शालू, रीतु, जुही, इंदू आदि का कहना था कि मेस संचालक द्धारा प्रति छात्रा से तीन हजार रूपया लिया जाता है. लेकिन घटिया खाना दिया जा रहा है. मीनू के हिसाब से खाना दिया जाता है. मीनू बना है लेकिन मीनू के हिसाब से खाना नहीं दिया जा रहा है. प्रतिदिन खाना तीन समय, शाम को स्नैक चाय, रात्रि में दूध देना है लेकिन मेस संचालक ऐसा नहीं करते है.

क्या कहती हैं संस्थान की प्राचार्य

मेस संचालक को मेनु के हिसाब से खाना देने का आदेश दिया जा चुका है. जहां तक बिजली की समस्या है तो कालेज में एक फेज का ही लाइन मिला है. तीन फेज लाइन के लिए सीएस को पत्र दिया जाएगा. अनुमति मिलने पर तीन फेज का आवेदन बिजली विभाग को देकर बिजली का कनेक्शन कर दिया जाएगा.