निजामपुर हादसा: शादी समारोह में शामिल होने आए रिश्तेदार को लाने जा रहे थे सिवान

0

तेज रफ्तार के कहर ने तीन घरों में फैलाया मातम

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के सराय ओपी क्षेत्र के निजामपुर में रविवार की देर रात सड़क हादसे में बसंतपुर के बभनौली निवासी मनोज कुमार के पुत्र रितेश कुमार एवं रमेश साह के पुत्र रोहित कुमार तथा गोरेयाकोठी के सरारी निवासी बच्चा प्रसाद के पुत्र बसंत कुमार की मौत के बाद जब पोस्टमार्टम के बाद तीनों शव गावं लाया गया तो स्वजनों में कोहराम मच गया। दोपहर बाद सभी शवों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। बताया जाता है कि बसंतपुर के सरारी निवासी बच्चा प्रसाद व पुत्र के साथ बसंतपुर में किराए के मकान लेकर कपड़े में कढ़ाई का काम करते हैं। उनके आवास के कुछ ही दूरी पर विद्या सिंह का घर है। बसंत तथा विद्या सिंह के लड़के के दोस्त हैं। विद्या सिंह के भतीजा की शादी है। उसमें शामिल होने के लिए दिल्ली से एक महिला घर पर आ रही थीं, उन्हीं को लाने के लिए रितेश स्कार्पियो से राेहित एवं बसंत कुमार के साथ सिवान जा रहे थे। तभी यह हादसा हुआ। इधर तेज रफ्तार का कहर एक बार फिर से देखने को मिला। जहां यह दुर्घटना हुई है उस जगह सड़क काफी चिकनी और चौड़ी है। स्थानीय लोगों के अनुसार रात्रि में इस जगह अक्सर वाहन चालकों की रफ्तार काफी तेज रहती है। स्कार्पियो की भी रफ्तार काफी तेज थी और ओवरटेक करने के दौरान सड़क के दाहिने तरफ स्थित विद्युत पोल से गाड़ी टकरा गई।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

15 दिन पहले ही खरीदी गई थी स्कार्पियो

रितेश कुमार द्वारा 15 दिन पूर्व स्कार्पियो खरीदी गई थी। मृत रितेश कुमार दो भाइयों में बड़ा था। उसे एक बहन है जो अविवाहित है। इसकी मौत के बाद पिता मनोज कुमार, मां कविता देवी समेत अन्य स्वजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। मृतक रोहित कुमार भी दो भाइयों में बड़ा भाई था। उसकी मौत के बाद पिता रमेश साह, मां रीता देवी समेत अन्य स्वजनों के चीत्कार से माहौल गमगीन हो गया। आसपास के ग्रामीण स्वजनाें को ढाढ़स बंधा रहे थे।

बभनौली में एक साथ शव पहुंचते ही स्वजनों में मचा कोहराम :

बभनौली में पोस्टमार्टम के बाद रितेश कुमार एवं रोहित कुमार कुमार शव आते ही स्वजनों में कोहराम मच गया। स्वजनों के चीत्कार से पूरा माहौल गमगीन हो गया। दोनों मृतक के दरवाजे पर काफी संख्या में लोगों की भीड़ एकत्रित हाे गई। लोग स्वजनों को ढाढ़स बंधा रहे थे।