शराबबंदी के विषय में पटना हाईकोर्ट ने मांगी सुप्रीम कोर्ट की हेल्प, थोक के भाव में गिरफ्तारी और फिर जमानत की सुनवाई, कोर्ट नहीं कर पा रहा निपटारा

0

पटना: बिहार में शराबबंदी के चलते आए दिन मामले में कई गिरफ्तारी होती रहती। अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाता और फिर कोर्ट में सुनवाई चलती। लगातार शराबबंदी मामले में सुनवाई के कारण कोर्ट के बाकी मामले पैंडिंग में हैं। कोर्ट बार बार शराबबंदी मामले में अंदर पहुंचे अभियुक्तों के जमानत पर सुनवाई करता और बाकी मामले लंबित रह जाते।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.16.03 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.24.37 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.13.39 PM
WhatsApp Image 2022-08-14 at 9.18.57 PM

इसे लेकर हाई कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई है। बता दें कि शराबबंदी कानून के तहत की गिरफ्तारी के बाद जमानत अर्जी को लेकर पटना हाई कोर्ट द्वारा सुप्रीम कोर्ट को इस बात की जानकारी दी गई है। कोर्ट द्वारा दिए गए जानकारी के मुताबिक बिहार में शराबबंदी कानून लागू होने के कारण जमानत याचिकाओं में भारी बढ़ोतरी हुई है। पटना हाईकोर्ट ने जो जानकारी दी है उसके अनुसार लगभग 25% नियमित जमानत याचिका केवल शराबबंदी से जुड़ी हुई हैं। जजों के स्वीकृत पदों से आधे से भी कम के साथ फिलहाल काम करना पड़ रहा है, इसलिए याचिकाओं के निपटारे में देरी हो रही और काफी मामले लंबित पड़ गए हैं।