बड़हरिया में संदेहास्पद स्थिति में ग्रामीण चिकित्सक की मौत

0
  • परिजनों ने लापता होने की सूचना त्रिलोकाहाता पुलिस चौकी व बड़हरिया थाना को दी थी
  • सड़क किनारे गड्ढे से शव किया गया बरामद
  • सुबह शौच करने गई महिलाओं ने शव देखा
  • 02 दिन से घर से लापता था चिकित्सक
  • 02 पुत्र व एक पुत्री है मृत चिकित्सक की

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के बड़हरिया थाना क्षेत्र के लकड़ी दरगाह-सीवान मुख्य मार्ग के सियाड़ी बदरजीमी के पास सड़क के किनारे पानी से भरे एक गड्ढे से दो दिनों से लापता एक अधेड़ का शव संदेहास्पद अवस्था में मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। मृतक थाना क्षेत्र के सवलहाता निवासी रामायण यादव का 50 वर्षीय पुत्र हरेराम यादव था। वह ग्रामीण चिकित्सक के रूप में घूम-घूमकर मरीजों का इलाज करने का काम कर अपने परिवार का भरण-पोषण करता था। घर के सामने एक छोटी सी गुमटी में दवा रखता था व ग्रामीण डॉक्टर के रूप में क्षेत्र में इलाज करता था। वह किसी का इलाज करने के लिए शुक्रवार की शाम लकड़ी दरगाह की तरफ गया हुआ था। लेकिन शाम को घर वापस नहीं लौटने पर परिजन खोजबीन करते रहे। कहीं जानकारी नहीं होने पर परिजनों ने शनिवार को इसके लापता होने की सूचना त्रिलोकाहाता पुलिस चौकी व बड़हरिया थाना को दी। रविवार की सुबह शौच करने गई महिलाओं ने सड़क के किनारे गड्ढे के पानी में शव को देख शोर मचाना शुरू की। बाद में शव की पहचान हरेराम के रूप में की गयी। घटना की सूचना पर पुलिस ने पहुंच शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

लोगों में होती रहीं अलग-अलग चर्चाएं

ग्रामीणों का कहना है कि किसी गाड़ी से धक्का लगा रहता तो शरीर के अंगों पर जख्मों का निशान रहता। अगर पानी में डूबने से मौत हुई होती तो शरीर का सभी भाग सफेद हो गया रहता। लेकिन, इस संदेहास्पद मौत से सबको उलझन में डाल दिया है। पुलिस सूत्रों की माने तो सिर व पेट पर चाकू जैसा चिन्ह मौजूद है। सूत्रों की माने तो जब पैदल मरीज का इलाज करने गए थे तो कम पानी में डूबने से कैसे मौत हो सकती है। इस तरह मौत को लेकर तरह-तरह के चर्चाएं हैं। इधर पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारण का सही पता चलेगा। परिजनों ने अभी तक आवेदन नहीं दिया है।

शव आते गांव में पसरा मातमी सन्नाटा

जैसे ही शव पोस्टमार्टम के बाद सवलहाता गांव पहुंचा तो गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया। परिजनों के चीत्कार से सबकी आंखें नम हो जा रही थीं। उसे दो पुत्र व एक पुत्री है। बड़ी पुत्री पूजा की शादी हो चुकी है। पत्नी किश कुमारी देवी, पुत्र रूपेश कुमार (22 वर्ष), बीरेश कुमार (20 वर्ष), पुत्री पूजा देवी (25 वर्ष) हैं। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। परिजन मौत के विषय में कुछ भी बताने से इनकार कर रहे हैं। इधर भाजपा नेता चन्द्रविजय यादव उर्फ हैपी यादव, पूर्व जिला पार्षद संजय राम ने पीड़ित परिजनों से मुलाकात कर ढांढस बंधाया। वहीं प्रशासन से उचित मुआवजे की मांग की। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक का परिवार काफी गरीब है।