एक साथ तीन बच्चों के शव को देख रो पड़ा टोका टोला

0
bachho ki maut

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के दरौली थाना क्षेत्र के टोका टोला गांव स्थित स्लुईस गेट समीप मंगलवार की रात नदी में छलांग लगाई महिला को लोगों ने तो बचा लिया लेकिन उसके तीनों बच्चों को काल के गाल से नहीं बचा सके। बुधवार की सुबह तीनों मासूमों का शव नदी से निकाला गया। शव देखते ही पूरे गांव में कोहराम मच गया। काफी संख्या मे ग्रामीण भी घटनास्थल पर तीनों मासूमों के शव को देखने के लिए उमड़ पड़े। थानाध्यक्ष जयनारायण राम दल बल के साथ मौके पर पहुंच तीनों बच्चों के शव को कब्जे में ले पोस्टमार्टम के लिए सदर भेज दिया गया। तीनों बच्चे दरौली टोका टोला विनोद चौहान का छह वर्षीय पुत्र युवराज चौहान एवं दो जुड़वा बेटी सोनम कुमारी एवं अमृता कुमारी (3 वर्ष) बताई जा रही हैं। घटना के समय पति विनोद चौहान बाजार गए हुए थे। घटना के संबंध मे लोगों मे भिन्न-भिन्न तरह की चर्चा व्याप्त है। कुछ ग्रामीणों की मानें तो पत्नी मानसिक रूप दिव्यांग होने के कारण तीनों बच्चों के साथ स्लुईस गेट से नदी मे कूद घटना का अंजाम दिया गया तो कुछ ग्रामीणों के अनुसार इसे पारिवारिक कलह बताया जा रहा है। वहीं घटना के संबंध पति विनोद चौहान द्वारा पुलिस दिए फर्द बयान में बताया कि मंगलवार की शाम में जिउतिया पर्व होने के कारण मेरी पत्नी तीनों बच्चों के साथ घर के पास स्लुईगेट निकरी नाला नदी मे स्नान करने गई थी। पत्नी नदी में नहाने लगी इधर किनारे बैठे तीनों बच्चे पानी मे उतर गए और गहरे पानी में डूबने लगे यह देख पत्नी तीनों को निकालने गई तो वह डूबने लगी, अन्य स्नान कर रहे लोगों द्वारा हल्ला करने पर ग्रामीणों द्वारा पत्नी बबुवंती देवी को तो निकल लिया गया, परंतु तीनों बच्चे नदी में लापता हो गए। उधर रात्रि एवं अंधेरा हो जाने पर लापता तीनों बच्चों को खोजने में दिक्कत होने लगी तो ग्रामीणों ने नदी से लापता बच्चों को खोजना बंद कर दिया। बुधवार को अहले सुबह से ही मुखिया लालबहादुर एवं सरपंच. राजेंद्र यादव के नेतृत्व में लापता तीनों बच्चों को खोजना शुरू किया तो तीनों बच्चे स्लुईस गेट में फंसे मिले। उसके बाद तीनों बच्चों के शव को बाहर निकाला लिया गया। थानाध्यक्ष जय नारायण राम ने कहा कि पिता विनोद चौहान के फर्द बयान पर केस दर्ज कर तीनों बच्चों के शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

तीन मासूमों की मौत से संपूर्ण जिला है मर्माहत

जहां जिउतिया पर्व के दिन मां अपने पुत्र की सलामती के लिए 24 घंटे का उपवास रखकर पूजा अर्चना के साथ संतान की सलामती की दुआ कर रही थीं तो वहीं दूसरी ओर ओर एक निर्दयी मां ने इस त्योहार के दिन ही अपने कोख से जन्मे तीन अबोध बच्चे के साथ स्वयं भी इहलिला समाप्त करने के लिए नदी में छलांग लगा दिया। यह घटना आम से लेकर खास तक सबको हैरान कर रही है। यह घटना जिले के दरौली थाना क्षेत्र के टोका टोला गांव की है जहां गांव के विनोद चौहान की पत्नी बबुंती देवी ने अपने तीन अबोध बच्चों में क्रमश: युवराज कुमार चौहान, दो जुड़वा पुत्री क्रमश: सोनम कुमारी एवं अमृता कुमारी को किसी कारणवश पास के नदी में लेकर छलांग लगा दिया। बता दें कि यह हृदयविदारक घटना जिले की पहली घटना है। यह घटना पूरे दिन संपूर्ण जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है।mantri

बबुवंती की दिमागी संतुलन ठीक नहीं

मासूम मृत बच्चों के चाचा भिखारी चौहान ने बताया कि मेरी भाभी बबुंती देवी की दिमागी हालत सही नहीं है। उसका कई महीनों से दवा भी चल रहा है। मासूम मृतकों के दादी कैलाशी देवी ने बताया कि बबुंती देवी के कारण मेरे बड़े पुत्र विनोद चौहान के घर का चिराग हमेशा के लिए बुझ गया, क्योंकि विनोद ने अपनी पत्नी बबुवंती देवी के मर्जी से तीन बच्चों को जनन के बाद उसका बंध्याकरण करा दिया है। लेकिन बबुंती देवी ने पल भर में विनोद के हरा भरा परिवार को उजाड़ डाला। मासूम मृतकों के दादा राम प्रवेश चौहान ने बताया कि हमेशा दो जुड़वा बच्ची क्रमश: सोनम एवं अमृता मुझे छोड़कर एक पल नहीं रहती थी। वहीं मृतक पांच वर्षीय युवराज कुमार हमेशा अपनी दादी कैलाशी देवी के पास ही बराबर रहता था। मृतकों के चाचा मात्र एक ही हैं जिनकी शादी अभी नहीं हुई है। चाचा भिखारी चौहान भी अपने दो भतीजी एवं एक भतीजे को बेटे की तरह मानते थे।

परिजनों को उचित मुआवजा की मांग

जिले के दरौली थाना क्षेत्र के टोका टोला गांव में एक साथ हुए तीन मासूमों की मौत की सूचना पर पहुंचे संकल्प ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीनिवास यादव ने सदर अस्पताल में पहुंच परिजनों से घटना की जानकारी ली और ढाढ़स बंधाया और कहा कि हम शोक संतप्त परिवार वालों के साथ हैं। उन्होंने अपने फंड से तीनों मासूमों के दाह संस्कार के लिए कफन उपलब्ध कराया। उसके बाद यादव ने परिजनों को उचित मुआवजा के लिए सदर एसडीओ अमन समीर से मुलाकात कर मुआवजा की मांग रखी तथा संबंधित सीओ से भी दूरभाष पर बातचीत की।