सिवान: जिले के 350 से अधिक हाईस्कूलों में कदाचारमुक्त माहौल में शुरू हुई मैट्रिक की प्रायोगिक परीक्षा

0

परवेज अख्तर/सिवान: बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से मैट्रिक की प्रैक्टिकल परीक्षा जिले के 350 से अधिक हाइ स्कूलों में गुरुवार से कदाचार मुक्त व शांतिपूर्ण माहौल में शुरू हुई। प्रायोगिक परीक्षा को लेकर पूर्व से ही तैयारी की गई थी। परीक्षा को लेकर परीक्षार्थियों में काफी उत्साह देखने को मिला। हाई स्कूलों में शारीरिक दूरी का अनुपालन करते हुए परीक्षा का संचालन किया गया। परीक्षार्थियों की संख्या अधिक होने के कारण परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गई। मुख्य गेट पर परीक्षार्थियों की जांच के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा था। बता दें कि परीक्षा 21 जनवरी तक आयोजित की जाएगी। जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार ने बताया कि सभी केंद्रों पर कदाचारमुक्त व शांतिपूर्ण माहौल में प्रायोगिक परीक्षा का संचालन किया जा रहा है। कहीं से भी कदाचार की शिकायत नहीं मिली है। बता दें कि पहली बार बिहार बोर्ड द्वारा प्रायोगिक परीक्षा को लेकर एडमिट कार्ड जारी किया गया है। प्रायोगिक परीक्षा से फर्जी परीक्षार्थियों को दूर रखने के लिए बोर्ड द्वारा यह कदम उठाया गया है। यहीं नहीं परीक्षार्थियों के कापी पर उनके नाम के साथ उनकी तस्वीर भी लगी हुई है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

मैट्रिक परीक्षा में जूता मोजा पहनकर नहीं मिलेगा प्रवेश :

मैट्रिक परीक्षा में परीक्षार्थियों को जूता मोजा पहनकर प्रवेश नहीं मिलेगा। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने इस संबंध में जिलाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी के साथ सभी केंद्राधीक्षकों को इसे सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है। जिला शिक्षा विभाग कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार परीक्षा भवन में परीक्षार्थियों के जूता-मोजा पहनकर आने पर पाबंदी लगाई गई है।

पहली पाली में गुलाबी व दूसरी पाली में मैजेंटा कलर में होगा ओएमआर :

बोर्ड ने कहा है कि किसी कारणवश अगर परीक्षार्थियों के एडमिट कार्ड घर पर छूट जाए तो वे परीक्षा से वंचित नहीं होंगे। मैट्रिक परीक्षा में परीक्षार्थियों की संख्या अधिक हाेने के कारण एक ही विषय की दो अलग-अलग पाली में ली जाएगी। ऐसे में दोनों पालियों की परीक्षा में कापी समेत अन्य सामग्रियों का रंग अलग-अलग निर्धारित किया गया है। इन्हीं रंगों से यह पहचान की जाएगी कि कापी या अन्य सामग्री किस पाली की है। पहली पाली में उत्तर पुस्तिका, ओएमआर समेत सभी सामग्री गुलाबी रंग में होगा, वहीं दूसरी पाली में ये सारी चीजें मैजेंटा रंग में होगी।