सिवान: या देवी सर्वभूतेषु के मंत्रोच्चारण से गुंजायमान हुआ पूरा क्षेत्र

0

✍️परवेज़ अख्तर/सिवान:
शारदीय नवरात्र के महासप्तमी के दिन दुर्गा मंडल में नवपत्रिका प्रवेश कराने के बाद मां दुर्गा का आह्वान किया गया। इसके बाद सिवान लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक तीन दिवसीय दुर्गा पूजा एवं मेले की शुरुआत हो गई। जगतजननी जगदंबा के सातवें स्वरूप मां कालरात्रि की पूजा-अर्चना की गई। जिला मुख्यालय स्थित सभी देवी मंदिरों एवं पूजा पंडालों में भक्ति की बयार बहने लगी थी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

WhatsApp Image 2023 10 21 at 7.42.23 PM

चहुओर या देवी सर्वभूतेषु.. के उच्चारण से माहौल भक्तिमय बन गया था। ग्रामीण क्षेत्रों में भव्य पंडालों में पूरे दिन पूजा अर्चना के बाद भक्तों को मां के दिव्य स्वरुप का दर्शन करने दिया जा रहा था। शहर में विभिन्न पूजा समितियों द्वारा बनाए गए पंडालों में भक्तों को किसी तरह की समस्या नहीं हो, इसको लेकर विशेष तैयारी भी की गई थी। वहीं कचहरी रोड स्थित दुर्गा मंदिर, बुढ़िया माई मंदिर में सुबह और संध्या में माता की पूजा को काफी संख्या में भक्त पहुंचे।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी माता के दर्शन को निकले भक्त :

शहर में जहां माता के दर्शन को भक्त सुदूर ग्रामीण क्षेत्र से पहुंच रहे हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी भक्तों के लिए पूजा समितियों द्वारा बनाए गए पंडालों में लोगों की भीड़ दिख रही है। बसंतपुर में सब्जी मंडी, लालबाबा, पुरानी बाजार, लकड़ी नबीगंज के किशुनपुरा मदारपुर, पड़ौली भवानी, डुमरा, गोपालपुर, महुआरी, खवासपुर, नंदपुर, लछुआ, बलथरा, उज्जैना, सिकटिया डुमरी मुसेहरी, बसौली, कपरीपुर, बंगरा भगवानपुर में रौनक नगर सारीपट्टी, माघर, बिठुनदेवी में लोगों काफी चहल-पहल रहा। इसके अलावा गुठनी, पचरुखी सब्जी मंडी, भवानी मोड, गम्हरिया बाजार, तरवारा, दारौंदा, बगौरा, रुकुंदीपुर, महाराजगंज बडी देवी नखास चौक, राजेंद्र चौक, शिव मंदिर, फुलेना स्मारक, पकवा इनार, जीरादेई, ठेपहां, जीरादेई, जामापुर, विजयीपुर, तितरा, रघुनाथपुर, राजपुर, टारी, मुरारपट्टी, नरहन, आदमपुर, संठी, पंजवार, सिसवन के चैनपुर, कचनार, हसनपुरा, गोरेयाकोठी, हुसैनगंज, गोरेयाकोठी, नौतन आदि प्रखंडों में मां के दर्शन एवं पूजा को सुबह से देर रात तक चहल-पहल रही।