सिवान: समर कैंप के संचालक को ले कर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण

0

परवेज अख्तर/सिवान: जिले के विभिन्न प्रखंड मुख्यालय स्थित बीआरसी में बुधवार को भी समर कैंप के सफल संचालन के लिए शिक्षक, तालीमी मरकज, शिक्षा सेवक व जीविका दीदियों को प्रशिक्षण दिया गया। गर्मी छुट्टी के दौरान एक से 30 जून तक प्रत्येक मध्य विद्यालयों में अक्षर आंचल योजना तहत समर कैंप चलाकर कमजोर बच्चों को दक्ष करने की जानकारी दी गई। प्रशिक्षकों ने कहा कि कमजोर बच्चों को अन्य बच्चों की तरह समझ विकसित करना ही प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य है। इसके लिए शिक्षकों को बच्चों का बेस लाइन टेस्ट लेकर सूची तैयार करने का निर्देश दिया गया, ताकि सूची ससमय जिला कार्यालय को भेजकर एक जून से समर कैंप की शुरुआत किया जा सकें। प्रशिक्षक ने बताया कि विद्यालय प्रधान द्वारा तैयार किए गए विद्यालय के कमजोर बच्चों की सूची से 15-15 बच्चों का बैच बनाया जाएगा। जिन्हें शिक्षा सेवक और तालीमी मरकज द्वारा तालीम दी जाएगी।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

शिक्षा विभाग द्वारा समर कैंप चलाने का मूल उद्देश्य विद्यालयों में वर्ग के कमजोर बच्चों को बेस लाइन टेस्ट के माध्यम से चिह्नित कर उन्हें विशेष शिक्षा देना है ताकि गर्मी छुट्टी के बाद बच्चे वर्ग के अन्य बच्चों की तरह समझ विकसित कर सकें। जानकारी के अनुसार लकड़ी नबीगंज प्रखंड मुख्यालय स्थित बीआरसी में बीईओ रीता कुमारी की देखरेख में जीविका दीदियों, टोला सेवकों, तालीमी मरकज को प्रशिक्षक कासिफ इसरार, बीरबल सिं और सुरेश बैठा द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में कक्षा पांच, छह, सात के कमजोर बच्चों और बेसिक शिक्षा से वंचित छात्र-छात्राओं को समर कैंप के जरिए शिक्षा प्रदान करने से संबंधित विविध गुर सिखाए गए। मौके पर बीपीएम मुकेश कुमार वर्मा, शिक्षक संघ अध्यक्ष हरिलाल यादव, वरीय शिक्षक संजेश कुमार, अविनाश मिश्रा, आपरेटर आशुतोष कुमार, कृष्णा प्रसाद आदि उपस्थित थे। वहीं दारौंदा प्रखंड मुख्यालय स्थित उत्क्रमित उच्च विद्यालय परिसर में समर कैंप के सफल संचालन के लिए कर्मियों को प्रशिक्षण दिया गया।

इस दौरान बीईओ शिवजी महतो, बीपीएम अमित प्रीतम, अर्चना कुमारी, समन्वयक पवन कुमार आदि ने समर कैंप के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। उन्होंने कहा कि एक जून से कक्षा पांच, छह एवं सात के कमजोर बच्चों को भाषा, समझ, गणितीय गणनाएं आदि की जानकारी दी जाएगी। गांव के नजदीक विद्यालयों में कैंप लगाया जाएगा। इस दौरान प्रत्येक दिन दो घंटे पढ़ाई कराई जाएगी। प्रशिक्षक के रूप में अमरेश कुमार, मो. इजहार आलम, अनीश खातून, प्रियंका कुमारी उपस्थित थीं। वहीं आंदर प्रखंड मुख्यालय बीआरसी में प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी वीरेंद्र प्रसाद केसरी की देखरेख में समर कैंप को सफल बनाने के चल रहे प्रशिक्षण बुधवार को संपन्न हो गया। बीईओ ने कहा कि प्रखंड के सभी विद्यालयों में प्राथमिकता के आधार पर कक्षा छह के बच्चों को 10 से 15 की संख्या में टेस्ट टूल के आधार पर चयन करना है। कक्षा छह से बच्चों की संख्या पूर्ण नहीं होने पर कक्षा सात से बच्चे को चयन करना है। समर कैंप एक जून से 30 जून तक संचालित किया जाएगा।