सिवान के सिसवन बंधन बैंक कर्मी से लूट कांड का मास्टरमाइंड सोनू गिरफ्तार

0
giraftar

परवेज अख्तर/सिवान:- चैनपुर ओपी अंतर्गत रामगढ़ गांव के सर्वोदय विधालय के समीप 11 अक्टूबर 2019 को दिनदहाड़े बंधन बैंक कर्मी से हुए 68955 रूपये लूटकांड के मामले में पुलिस ने लूटकांड के मास्टरमाइंड को मंगलवार की देर शाम रामगढ़ गांव से गिरफ्तार कर लिया।पुछताछ के बाद उसे बुधवार को जेल भेज दिया गया। गिरफ्तार अपराधी रामगढ़ गांव निवासी भोला साह का पुत्र विश्वजीत कुमार साह उर्फ सोनू गुप्ता है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

गिरफ्तार अपराधी ने लूटकांड मे अपनी संलिप्तता स्वीकार कि है।चैनपुर ओपी प्रभारी राकेश कुमार ने बताया कि पूछताछ के दौरान विश्वजीत कुमार साह ने बताया कि लूट कांड के दिन वह लाइनर का काम कर रहा था तथा उसने अपने गैंग के दो साथियों सारण जिले के रसुलपुर थाना क्षेत्र के असहनी गांव निवासी कुख्यात सोनू यादव तथा नगर थाना क्षेत्र के मौना चौक निवासी राहुल कुमार के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया था।उसने बताया कि इस घटना को अंजाम देने के उसने ही दोनों को बुलाया था तथा 10 बजे दिन के आसपास उसने दोनों साथियो को नगई गांव के मोड़ पर रहने की बात कही थी।

शुक्रवार होने के चलते बंधन बैंक कर्मी गांव में अपने कस्टमर से पैसा वसूली करने के लिए गए थे ।यह बात विश्वजीत को पहले से पता थी विश्वजीत ने आकर अपने दो साथी सोनू यादव और राहुल कुमार को स्प्लेंडर गाड़ी एवं उसका नंबर बता दिया।जिससे बंधन बैंक का रुपया लेकर जाएगा उसके बताए हुए रास्ते पर सोनू यादव और राहुल कुमार खड़े थे। रामगढ़ सर्वोदय स्कूल के सामने आने के बाद सोनू यादव राहुल कुमार ने बंधन बैंक कर्मी के गाड़ी को रोकने के लिए तेजी से गाड़ी को ओवरटेक किया और आगे से रोक दिया था।दोनों कर्मी से बैग छीना झपटी करने लगे तथा इंकार किए जाने के बाद सोनू यादव ने बंधन बैंक कर्मी को पिस्टल से गोली मार दी और रुपए से भरा बैग लेकर फरार हो गया।जानकार सूत्रों की मानें तो कंप्यूटर का मास्टरमाइंड विश्वजीत यूट्यूब पहले कैसे घटना का अंजाम दिया जाए।

इसके लिए सर्च करता था उसके बाद वह सारी घटना का प्लान तैयार करता था। इसके पहले उसने दर्जनों ऐसे लूट की घटनाओं को अंजाम दे चुका है। जिसमें पुलिस की उससे बहुत पहले से तलाश है ।छपरा जिले के थाना क्षेत्र के बैंक में लूट कांड का भी वांछित है। जिससे पुलिस इसकी गिरफ्तारी के लिए कई बार छापेमारी कर चुकी है। उसमें भी पुलिस की तलाश थी। 23 वर्ष की उम्र में ही अपराधिक दुनिया में शामिल हो गया।

बताया जाता है कि वह दर्जनों अपराधीक घटनाओं को अंजाम दे चुका है। अपराध की दुनिया में अपना पहला कदम रखा उसके बाद लगातार लूट की घटनाओं को अंजाम देता रहा। गांव में किसी से बात नहीं करता था ।लूट की घटनाओं को अंजाम देने के बाद या छपरा के काशी बाजार के एक लाज में जाकर रहता था।