बिहार में बीडीओ के घर और ससुराल में निगरानी का छापा, मिला एक किलो सोना

0

बिहार के सारण जिले के तरैया में प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) के पद पर तैनात कृष्ण कुमार सिंह के ठिकानों पर छापेमारी में एक किलोग्राम सोने के गहने और कई महत्वपूर्ण दस्तावेज बरामद किए गए हैं। बीडीओ कृष्ण कुमार सिंह पर आय से 85 फीसदी ज्यादा संपत्ति अर्जित करने का आरोप है। निगरानी अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने बुधवार को सारण और वैशालि जिले में स्थित बीडीओ के तरैया प्रखंड कार्यालय, मढौरा स्थित घर और हाजीपुर के वीर कुंवर सिंह कॉलोनी स्थित ससुराल में एक साथ छापेमारी की।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

निगरानी थाना पटना में 30 अक्टूबर को बीडीओ के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया गया था। पटना से पहुंची निगरानी की टीम ने तरैया में बीडीओ कार्यालय में छापेमारी की। बताया जाता है कि वहां टीम को कुछ हाथ नहीं लगा। प्रखंड कार्यालय में निगरानी के पुलिस उपाधीक्षक अपने पदाधिकारियों के साथ करीब साढ़े 9 बजे पहुंच गए। उन्होंने प्रखंड के प्रधान लिपिक को साथ लिया और बीडीओ के मढौरा स्थित आवास पर छापेमारी की।

करीब साढ़े 11 बजे बीडीओ कार्यालय पहुंची और वहां रखी दो अलमारियों का ताला तोड़वा दिया। अलमारियों को टीम के सदस्यों द्वारा बारीकी से खंगाला गया। तलाशी के बाद निगरानी टीम के प्रभारी सत्यकाम ने बताया कि निगरानी थाना में दो दिनों पहले 30 अक्टूबर को तरैया बीडीओ कृष्ण कुमार सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। टीम करीब दो बजे लौट गई।

मुझे फंसाया गया : बीडीओ

बीडीओ कृष्ण कुमार सिंह ने बताया कि उनके पिता की अचानक तबीयत खराब हो गई। इस वजह से वे छापेमारी के दौरान अनुपस्थित थे। उनपर गलत आरोप लगाकर फंसाया गया है। जांच में वह निगरानी टीम का सहयोग करेंगे।

बता दें कि तरैया बीडीओ के कार्यालय में जरूरी जांच के लिए निगरानी टीम के आग्रह पर मढौरा एसडीओ डॉ प्रेरणा सिंह ने दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की। हाजीपुर नगर थाना अंतर्गत वीर कुंवर सिंह कॉलोनी स्थित बीडीओ के ससुराल में भी छापेमारी हुई। निगरानी विभाग के डीएसपी विनोद कुमार ने बताया कि बीडीओ पर आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला दर्ज किया गया था। जिसमें 65 लाख रुपए दिखाया गया है, जिसमें आय से 87 अधिक है।