खैनी बेचने वाले का बेटा बनेगा बड़ा अधिकारी, निरंजन कुमार ने UPSC पास कर रचा इतिहास

0

UPSC 2020 में इस बार बिहार का डंका बज रहा है. टॉप 10 में जहां बिहार के तीन लड़कों ने जगह बनाई, वहीं कई अन्य रैंक पर यहां की प्रतिभाओं ने जगह बनाई है। बिहार के कटिहार जिला के रहने वाले शुभम कुमार ने यूपीएससी की परीक्षा में टॉप किया है. शुभम कुमार के अलावा बिहार के अभ्यर्थियों ने परीक्षा में सफलता हासिल की है. इन सफल अभ्यर्थियों में कईयों की कहानी काफी प्रेरणादायक है.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
muskan buty

नवादा जिले के निरंजन कुमार की कहानी भी लोगों के लिए काफी प्रेरणादायक है। इसी में शामिल हैं नवादा के निरंजन कुमार। वे पकरीबरावां प्रखंड मुख्यालय के रहने वाले अरविंद कुमार एवं यशोदा देवी के पुत्र हैं.।उन्हें इस बार 535वां रैंक मिला है, जबकि निरंजन ने 2016 में 728वां रैंक लाया था। फिलहाल वे दिल्ली में इनकम टैक्स में डिप्टी कमिश्नर के पद पर आसीन है।

निरंजन कुमार के पिता अरविंद कुमार अभी भी पकरीबरावां बाजार में खैनी की दुकान चलाते हैं. निरंजन ने वर्ष 2004 में जवाहर नवोदय विद्यालय रेवार से मैट्रिक की परीक्षा पास की थी. वर्ष 2006 में उन्होंने साइंस कॉलेज पटना से इंटर की परीक्षा पास की. इसके बाद आईआईटी हो गए. आईआईटी करने के बाद वे कोल इंडिया लिमिटेड धनबाद में सहायक मैनेजर के पद पर ज्वाइन किया।

इस बीच उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू की. वर्ष 2016 में उन्हें इसमें सफलता मिली. इनकम टैक्स में डिप्टी कमिश्नर का पद मिला. लेकिन अपनी रैंकिंग से खुश नहीं थे. पद व परिवार के बीच भी इन्होंने समय निकाला और एक बार फिर यूपीएससी को क्रैक किया. इस बार पहले से बेहतर रैंक मिला. निरंजन ने अपनी सफलता का श्रेय अपने बच्चों के अलावा अपने पैरेंट्स व टीचर्स को दिया।