मशरख में तेज रफ्तार ट्रक ने सिवान के दो शिक्षकों को रौंदा, कोहराम

0
accident

परवेज अख्तर/सिवान : सराय ओपी क्षेत्र के शंभोपुर एवं उखई के दो शिक्षक की मौत शुक्रवार की देर शाम मशरख में सड़क दुर्घटना में हो गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया। गांव में शव आते ही परिजनों में कोहराम मच गया। घटना के संबंध में बताया जाता है कि सराय ओपी क्षेत्र के शंभोपुर निवासी हरिकिशुन गिरि के पुत्र शिक्षक संत कुमार गिरि (30) तथा उखई निवासी रघुनाथ गिरि के पुत्र छठू गिरि (20) बाइक से किसी कार्य से छपरा गए थे और वे मशरख होते हुए घर लौट रहे थे तभी अनियंत्रित ट्रक के चपेट में आ कर घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने दोनों घायलों को अस्पताल पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। स्थानीय पुलिस ने दोनों शव को पोस्टमार्टम के लिए छपरा भेज दिया। पुलिस ने मृत शिक्षकों के जेब से मिले मोबाइल के आधार पर परिजनों को सूचना दी। सूचना मिलते ही परिजन एवं शंभोपुर के मुखिया सह पैक्स अध्यक्ष वीरबहादुर सिंह पटेल अपने आधा दर्जन समर्थकों के साथ पहुंचे जहां पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव को सौंप दिया। वहीं पुलिस दुर्घटना में क्षतिग्रस्त बाइक तथा ट्रक को अपने कब्जे में कर थाना लाया। घटना के बाद ट्रक चालक फरार हो गया। अज्ञात ट्रक चालक के विरुद्ध थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। वहीं एसडीओ ने मृतक के परिजनों को आपदा के तहत मिलने वाले चार-चार लाख रुपये की अनुशंसा की है।

शव आते ही मचा कोहराम

ट्रक की टक्कर से मृत दोनों शिक्षकों का शव पोस्टमार्टम के बाद गांव पहुंचा तो परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों के चीत्कार से वहां उपस्थित लोगों की आंखें नम हो जा रही थीं। उखई निवासी निवासी रघुनाथ गिरि का पुत्र छठ्ठू गिरि अभी अविवाहित था। वह तीन भाइयों में मझौले था। वहीं चौमुखा निवासी हरिकिशुन गिरि का पुत्र संत गिरि वर्तमान में शंभोपुर मंदिर के पास घर बना रहते थे और वहीं कोचिंग चलाते थे। वे तीन भाइयों में सबसे बड़े थे। दूसरा भाई दिल्ली में रहता है तथा सबसे छोटा गांव में ही पढ़ता है। संत गिरि की शादी पांच वर्ष पहले हुई थी। इन्हें एक लड़की दिव्या एवं एक पुत्र शुभम है। वे पिता की मौत से बेखबर हैं। वहीं इनकी पत्नी रिंकू देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। बच्चे भी मां को रोते देख रो रहे थे। पति की मृत्यु से पत्नी बार-बार रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी। पुत्री भी मां से लिपट हो दहाड़ मारकर रो रही थी। आसपास के ग्रामीण परिजनों को सांत्वना दे रहे थे। सांत्वना देने वालों में उखई मुखिया पति नागेंद्र सिंह, पूर्व प्रमुख महादेव पासवान, पैक्स अध्यक्ष अनिल सिंह पटेल समेत अन्य प्रतिनिधि एवं ग्रामीण शामिल थे। दोनों शवों दाह संस्कार कर दिया गया।