स्कूली बच्चों को दिया गया खसरा व रूबेला का टीकाकरण

0
khasra rubela tika

परवेज अख्तर/सिवान : जिले के विभिन्न विद्यालयों में नौ माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को अभियान के तहत खसरा एवं रूबेला का टीका लगाया गया। जानकारी के अनुसार शहर के गांधी मैदान स्थित बुढ़िया माई मंदिर स्थित सिटी मांटेसरी स्कूलमें शुक्रवार को बच्चों को खसरा एवं रूबेला का टीकाकरण अभियान के तहत छात्र-छात्राओं को टीके लगाए गए। प्रधानाचार्य अशोक कुमार सिंह ने बताया कि स्कूल के 850 छात्र-छात्राओं को खसरा एवं रूबेला के टीका लगाए गए। वहीं चिकित्सकों की टीम ने बताया कि अनुपस्थित होने के कारण जो छात्र टीका लगाने में छूट गए हैं उन्हें पुन: मेडिकल टीम बुलाकर टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि खसरा-रूबेला से बचाव के लिए नौ महीने से 15 वर्ष तक के बच्चों को यह टीका लगाना अनिवार्य है। चिकित्सकों की मानें तो जो बच्चे पहले इस तरह के टीके लगवा चुके हैं उनके लिए यह नया डोज होगा। टीका लगाने को ले बच्चों में भी काफी उत्साह देखा गया। हुसैनगंज प्रखंड के सुरापुर इकरा पब्लिक स्कूल में चिकित्सकों की टीम डॉ. अशफाक अहमद, डॉ. एच रहमान, स्वास्थ्य प्रबंधक मो. अल्लाउद्दीन ने 1020 बच्चों को मिजिल्स रुबेला का टीका दिया गया। आंदर बाजार स्थित इम्मानुएल अवासीय विद्यालय में खसरा एवं रूबेला जैसे खतरनाक बीमारी का टीकाकरण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आंदर चिकित्सा पदाधिकारी दिलीप कुमार एवं मॉनिटर सुनील कुमार ठाकुर की उपस्थिति में शुभारंभ किया गया, जिसमें नर्सरी से लेकर सातवीं कक्षा के 704 छात्र-छात्राओं टीका लगाया गया। प्राचार्या मिनी वर्गिस ने टीकाकरण के दौरान बच्चों से कहा कि वे अपने-अपने घर जाकर अपने अभिभावकों को इस बीमारी के विषय में जानकारी देंगे और उन्हें जागरूक करेंगे। विद्यालय के प्रशासक मनु वर्गिस अतिरिक्त प्राचार्य प्रभुनाथ पांडेय, टीकाकरण कार्यक्रम के पर्यवेक्षक केशव पाठक, एएनएम अभिलाषा पुरुषोत्तम, रीना कुमारी, बसंती कुमारी, संजू कुमारी,मधु कुमारी सहित आदि शिक्षक उपस्थित थे। बसंतपुर में अब तक 3880 बच्चो को टीकाकरण किया गया है। स्वास्थ्य प्रबंधक विनोद कुमार सिंह ने बताया कि मुख्यालय के उत्क्रमित मध्य विद्यालय ब्लॉक कॉलोनी, आदर्श राजकीय मध्य विद्यालय, मिनर्वा एवं सुपर मिनर्वा पब्लिक स्कूल, विकाश सेंट्रल स्कूल आदि विद्यालयों में अबतक 3880 बच्चों का टीकाकरण किया गया है। इस कार्यक्रम में एएनएम, आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी सेविका आदि को तैनात किया गया है।