समान वेतन लिए बिना हम चुप नहीं बैठने वाले

0

परवेज अख्तर/सीवान :- बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के प्रदेश नेतृत्व के आह्वान पर जिले के सभी प्रखंड मुख्यालयों में शनिवार को समान वेतन की मांग को लेकर शिक्षकों ने एक दिवसीय धरना दिया। कई प्रखंडों में तो शिक्षकों ने प्रदर्शन भी किया। समान वेतन की मांग को लेकर 18 जुलाई से आंदोलन कर रहे शिक्षकों ने सरकार को खूब खरी-खोटी सुनाई। शिक्षकों ने कहा कि समान वेतन लिए बिना हम चुप नहीं बैठने वाले हैं। चाहे इसके लिए हमें कोई भी कुर्बानी क्यों न देना पड़े। शिक्षकों ने कहा कि 17 अगस्त को हम अपनी मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट पर भी धरना देंगे। रघुनाथपुर प्रखंड में आयोजित धरना कार्यक्रम में पहुंच पूर्व मंत्री व राजद के प्रदेश उपाध्यक्ष विक्रम कुंवर ने कहा कि शिक्षकों की मांग पूरी तरह से जायज है। कहा कि जब सभी समान काम कर रहे हैं तो समान वेतन देने में क्या हर्ज है। मुख्यमंत्री को शिक्षकों के मांगों की अनदेखी उनके गले की फांस बन सकती है। शिक्षक नेता विनय कुमार तिवारी व संजीव कुमार पांडेय ने कहा कि सरकार को हमलोगों ने बहुत मौका दे चुके हैं, अब हमारा संघर्ष सरकार के खिलाफ निरंतर चलेगा। पुराने नियमित शिक्षकों की तरह समान वेतन देने, उनके ही तरह सेवाशर्त, नियोजन इकाई के बाहर स्थानांतरण व वेतन संरक्षण का लाभ, पुराने पेंशन योजना का लाभ देने, वेतन विसंगति को दूर करके 2.57 से गुणा करके नव प्रशिक्षित शिक्षकों का वेतन निर्धारण करने, पहले की तरह ही मृत शिक्षकों के अप्रशिक्षित आश्रितों को शिक्षक की नौकरी देने, सभी कोटि के शिक्षकों को ग्रुप बीमा व सामान्य भविष्य निधि का लाभ देने व शहरी क्षेत्र में कार्यरत नियोजित शिक्षकों को भी परिवहन भत्ता देने की मांगों से संबंधित ज्ञापन सभी बीडीओ को सौंपा गया। मौके पर नूतन कुमारी मिश्रा, सीमा कुमारी, शम्भूजी भक्त, राकेश कुमार सिंह, प्रवीण कुमार सिंह, जितेन्द्र तिवारी, हिमांशु सिंह, कृष्णा सिंह, अशोक कुमार राम, राकेश बैठा, बीरेश सिह, राम बाबू, सुजीत कुमार, अनिल कुमार, मुकेश कुमार सिंह, संजय राम, मनज साह व रमेश रजक, दधिबल राय, मुंद्रिका साह, प्रकाश चन्द्र द्विवेदी, जय प्रकाश मांझी व उपेन्द्र सिंह आदि थे।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
dr faisal

शिक्षा को चौपट करने पर तुली है राज्य सरकार

पचरुखी में संयोजक माधव सिंह के नेतृत्व में शिक्षकों ने धरना दिया। जय प्रकाश चौधरी व ठाकुर प्रसाद यादव ने कहा कि सरकार शिक्षा को चौपट करने पर तुली हुई है। कहा कि सरकार को शिक्षा में सुधार की चिंता रहती तो शिक्षकों से टकराव की जगह बातचीत का रास्ता चुनती। जय प्रकाश सिंह व मंगल कुमार साह ने कहा कि हम आंदोलन शुरू कर दिए हैं, सरकार अगर फिर भी चेतती है तो उसे बहुत बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ेगा मुन्ना कुमार ने कहा कि सरकार की हिटलरशाही रवैया उसे गर्त में डूबा देगी। अमृतेश दुबे ने कहा कि हम सड़क को हमारा हक देने पर बाध्य कर देंगे। आतिश कुमार, अमर लाल चौधरी व शाहिद आलम ने नियोजन नीति की जमकर आलोचना की। विवेक पटेल ने कहा कि सरकार को शिक्षा नीति के साथ अपने नियत में भी बदलाव लाना होगा। राजीव गुप्ता, अभिषेक कुमार और माधव सिंह ने कहा कि इस बार की लड़ाई आर-पार की होगी। सभा को विभा कुमारी, लक्ष्मी देवी, अशोक राम व चन्दन कुमार ने भी संबोधित किया। सदर प्रखंड में असगर अली, मोबिंद जी, हर्ष भारद्वाज, विनय पांडेय, जाहिद, अविनाश गुप्ता व गिरीन्द्र श्रीवास्तव ने धरना दिया और बीडीओ को ज्ञापन सौंपा।