‘लाल किला पर हंगामा करनेवाले कौन थे? पता चला?’, किसानों के समर्थन में तेजस्वी यादव की कल मानव श्रृंखला

0

पटना: बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने एक बार फिर कृषि कानूनों के विरोध में दो महीने से दिल्ली की सीमाओं पर धरना- प्रदर्शन कर रहे किसानों का समर्थन किया है, तेजस्वी ने कहा कि जब किसान कह रहे हैं कि ये बिल उनके हितों के खिलाफ है तो केंद्र सरकार क्यों ज़िद पर अड़ी है? उन्होंने कहा कि अब ये साफ हो चुका है कि लाल क़िला पर प्रदर्शन और हंगामा करने वाले लोग कौन थे? उन्होंने कहा कि ये बात जगजाहिर हो चुकी है लेकिन सभी की अपनी-अपनी मजबूरियां हैं, कोई कुछ नहीं बोल रहा.

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

राजद नेता ने किसानों के आंदोलन के समर्थन में 30 जनवरी को मानव श्रृंखला का आयोजन किया है. इसमें महागठबंधन के सभी सहयोगी दल शामिल होंगे. तेजस्वी ने राज्यवासियों से इस श्रृंखला में शामिल होकर किसानों का समर्थन करने का आह्वान किया है. तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में भी जल्द से जल्द बाजार समिति और मंडी की व्यवस्था लागू होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हमें पूरा विश्वास है कि बिहार के किसान भी उसी धारा में आएंगे जिस तरीके से हरियाणा, पंजाब व पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान इस आंदोलन में शामिल हो रहे हैं.

तेजस्वी ने ट्वीट किया है, “बिहार का किसान APMC व्यवस्था ध्वस्त किए जाने के बाद से बद से बदतर स्थिति में पहुँच गया. कभी MSP पर अनाज नहीं बेच पाया. क्या आप बिहार के किसानों को इस दुर्गति से बाहर नहीं निकालना चाहते? 30 जनवरी को मानव श्रृंखला में अपनी उपस्थिति का योगदान देकर देश के अन्नदाताओं को सम्मान दें.”

बिहार का किसान APMC व्यवस्था ध्वस्त किए जाने के बाद से बद से बदतर स्थिति में पहुँच गया। कभी MSP पर अनाज नहीं बेच पाया।

क्या आप बिहार के किसानों को इस दुर्गति से बाहर नहीं निकालना चाहते?

30 जनवरी को मानव श्रृंखला में अपनी उपस्थिति का योगदान देकर देश के अन्नदाताओं को सम्मान दें। pic.twitter.com/KTmzNk8RQN

तेजस्वी यादव ने MSP के बहाने राज्य की नीतीश सरकार पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि राज्य में MSP से भी आधी कीमत पर किसानों से फसल खरीदी जा रही है, जबकि डीजल के दाम रोज बढ़ रहे हैं. उन्होंने बेरोजगार टीईटी पास शिक्षकों की काउंसलिंग नहीं कराए जाने पर भी नीतीश सरकार की आलोचना की है.