परीक्षा केंद्र पर 211 छात्राओं के बीच अकेला छात्र बन गया फीमेल, जानिए वजह

0

पटना: बिहार की शिक्षा और परीक्षा व्‍यवस्‍था अक्‍सर किसी न किसी कारामात को लेकर चर्चा में रहती है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित इंटर परीक्षा में एक से बढ़कर एक गड़बड़ी सामने आ रही है। ताजा मामला हैरान करनेवाला है। खगडिया जिले के इंटरमीडिएट परीक्षा के एक केंद्र में 211 छात्राओं के बीच एक छात्र परीक्षा दे रहा है। जबकि यह केंद्र सिर्फ छात्राओं के लिए है। अकेले छात्र के लिए इस केंद्र पर बेहद असहज स्थिति उत्‍पन्‍न हो जाती है। खुद छात्र और कर्मियों की यह गलती चर्चा का विषय बन गया है।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2023-10-11 at 9.50.09 PM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.50 AM
WhatsApp Image 2023-10-30 at 10.35.51 AM
ahmadali
WhatsApp Image 2023-11-01 at 2.54.48 PM

यह मामला गोगरी अनुमंडल के भगवान इंटर विद्यालय केंद्र का है। इस केंद्र पर बिहार केसरी एवं मोती हजारी इंटर विद्यालय डुमरिया बुजुर्ग के छात्र दीपक कुमार परीक्षा दे रहा है। जबकि इस विद्यालय के बाकी सभी छात्रों का केंद्र न्यू होली गंगेज विद्यालय है। लेकिन यहां के अकेले छात्र दीपक का केंद्र एडमिट कार्ड में भगवान इंटर विद्यालय गोगरी बना दिया गया है। दीपक इस केंद्र में अकेला छात्र है, जो छात्राओं के बीच परीक्षा दे रहा है। वह परबत्‍ता प्रखंड के सियादतपुर अगवानी पंचायत के खनुआराका का रहने वाला है। दीपक कुमार का रोल नंबर 210001 है, जबकि रोल कोड 84032 है।

इस संबंध में बिहार केसरी एवं मोती हजारी इंटर विद्यालय डुमरिया बुजुर्ग के प्रधान मु. सोहेब अहमद जहिरी कहते हैं कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा रजिस्ट्रेशन से लेकर फॉर्म भरने तक में कई बार सुधार के अवसर दिए जाते हैं। कोरोना काल में जब डमी एडमिट कार्ड निकाला गया, जिसे छात्र दीपक को बुलाकर भी दिखाया गया। बार-बार चेक करने के बाद भी गलती पर किसी का ध्‍यान नहीं गया। छात्र के लिंग में मेल की जगह फीमेल भरा था। इस पर चेक करने के समय किसी का ध्‍यान नहीं गया। छात्र ने भी इस बात पर डमी एडमिट कार्ड चेकिंग के समय ध्‍यान नहीं दिया। इस कारण दीपक का केंद्र छात्राओं के साथ दे दिया गया है। विद्यालय प्रधान ने कहा कि इससे क्‍या परेशानी है। इसे बाद में ठीक करवा दिया जाएगा। लेकिन छात्र दीपक ने कहा कि वह इस केंद्र पर परीक्षा देने में सहज महसूस नहीं करता। कई बार काफी परेशानी होती है।