पटना बना देश का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर, राजधानी की हवा हुई बेहद खराब

0

पटना : बिहार की राजधानी पटना की हवा खराब हो गई है। करीब दो सप्ताह पहले पटना का सूचकांक 158 यानी मॉडरेट श्रेणी में था। वहीं बुधवार को सूचकांक बढ़कर 286 हो गया। इतना ही नहीं बुधवार को पटना देश का तीसरा और राज्य का पहला सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर बन गया। पहले स्थान पर गुजरात के वातवा का सूचकांक 321 और दूसरे नंबर पर लखनऊ है, जिसका सूचकांक 297 है। दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 171 है। जहां दिल्ली की हवा की गुणवत्ता में काफी सुधार हुआ है। वहीं पटना की हवा खराब श्रेणी में पहुंच गयी है। वजह पटना पूरी तरह से धूल-कण में समाहित हो गई है।

विज्ञापन
WhatsApp Image 2023-01-25 at 10.13.33 PM
pervej akhtar siwan online
WhatsApp Image 2022-08-26 at 8.35.34 PM
WhatsApp Image 2022-09-15 at 8.17.37 PM

दानापुर व ईको पार्क की हवा बेहद खराब

दानापुर और ईको पार्क एरिया में हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंच चुकी है। शहर की हवा में धूलकण की मात्रा मानक से चार से पांच गुना अधिक है। बिहार में मुजफ्फरपुर और गया ज्यादा प्रदूषित शहर पटना बन गया है। मुजफ्फरपुर का सूचकांक 230 और गया का सूचकांक 174 है। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण पर्षद द्वारा देश के 116 शहरों की राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता सूचकांक जारी किया गया है।

प्रदूषित होने की मुख्य वजह

सड़कों की सफाई और धुलाई को लेकर नगर निगम की बेरुखी के कारण शहर के वायु प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी होने लगी है। अभी खुले में भवन निर्माण और पुल निर्माण के दौरान धूलकण वायु में फैल रहा है। पर्यावरणीय नियमों का निर्माणाधीन स्थल पर पालन नहीं किया जा रहा है। इसके कारण शहर का वायु प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। तापमान में बढ़ोतरी होने के बावजूद पटना की हवा में पीएम 10 और पीएम 2.5 यानी मोटे और महीन धूलकण की मात्रा बढ़ती जा रही है।

बनाया जा रहा ऑटोमेटिक एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन

बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की ओर से बिहार जिला के 24 शहरों में एक-एक ऑटोमेटिक एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन लगाने का काम शुरू कर दिया है। इस प्रकार इन शहरों में लग जाने से राज्य भर के वायु प्रदूषण का वैज्ञानिक तरीके से आकलन हो सकेगा। पटना शहर के अंदर फिलहाल छह जगहों पर स्टेशन लगाया गया है। वहीं नगर निगम की ओर से निगम क्षेत्र में अपने स्तर से 10 ऑटोमेटिक एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन लगाने की योजना थी, लेकिन अभी उसपर काम शुरू नहीं हो पाया है।

शहरों का वायु गुणवत्ता सूचकांक

शहर            सूचकांक
वातवा        321
लखनऊ        297
पटना            286
इंदौर            139
दिल्ली        177
गाजियाबाद        212

इन शहरों में एक-एक नया स्टेशन बनेगा

बेतिया, सीवान, छपरा, बक्सर, आरा, सासाराम, मोतिहारी, मुजफ्फरपुर, औरंगाबाद, गया, राजगीर, बिहारशरीफ, बेगूसराय, समस्तीपुर, दरभंगा, मुंगेर, सहरसा, भागलपुर, कटिहार, पूर्णियां, अररिया, किशनगंज।