……और जेल जाते जाते अयूब खान ने कहा की मुझे पता नहीं कि आखिर मैं क्यों भेजा जा रहा हूं जेल

0
  • अयूब की बढ़ती लोकप्रियता से घबरा गए थे विरोधी खेमे के लोग
  • नूतन वर्ष 2022 के जश्न मनाकर गंगटोक से लौटते समय अयूब खान की पूर्णिया में हुई थी गिरफ्तारी

✍️परवेज अख्तर/एडिटर इन चीफ:
सिवान में तीन युवकों को अगवा कर ठिकाना लगाने के आरोप में नगर थाना की पुलिस द्वारा अयूब खान को सोमवार की दोपहर जब कड़ी सुरक्षा के बीच सिवान न्यायालय परिसर तथा मेडिकल चेकअप हेतु सिवान सदर अस्पताल लाया गया तो वे सिवान ऑनलाइन न्यूज़ के कैमरे के समक्ष आकर पुलिस वाहन पर सवार होते समय अंत अंत तक कह डाले की मुझे पता नहीं कि आखिर मैं किन मामले में जेल भेजा जा रहा हूं।लेकिन नगर थाना की पुलिस द्वारा कहा जा रहा है कि शहर से तीन युवकों को ठिकाना लगाने के मामले में उन्हें जेल भेजा जा रहा है।उधर अयूब खान के जेल जाने के बाद परिजनों ने बताया कि अयूब खान इस मामले में बेगुनाह हैं।पूर्व में उनके विरुद्ध कई अपराधिक मामले दर्ज हुए थे और कई ऐसे मामले में उन्हें न्यायालय द्वारा बेगुनाही का सबूत भी दिया गया।

विज्ञापन
pervej akhtar siwan online
ahmadali
camp

परिजनों ने बताया कि उम्र ढलने के बाद वे सामाजिक प्राणी होने के नाते वे सिवान के अलावा अन्य जिलों में सामाजिक कार्य में बढ़-चढ़कर अपनी भूमिका निभा रहे थे।परिजनों ने स्पष्ट रूप से कहा कि सामाजिक कार्य में बढ़-चढ़कर भूमिका निभाने के दौरान कई जिले में उनकी लोकप्रियता काफी बढ़ रही थी।जिससे विरोधी खेमे में काफी हताश पैदा होने के कारण उन्हें एक षड्यंत्र व साजिश रचकर अयूब खान को गलत मुकदमे में फंसा कर जेल भिजवाने का काम किया गया है।परिजनों ने स्पष्ट रूप से कहा कि हम सभी लोगों को माननीय न्यायालय पर पूर्ण रूप से भरोसा है।हम सभी को इंसाफ जरूर मिलेगा।उधर नगर थाना में दर्ज कांड के अनुसंधानकर्ता द्वारा तीन युवकों को ठिकाने लगाने की बातों का उल्लेख अपने केस डायरी में अंकित किया गया है।

यहां बताते चलें कि तीन युवकों के अचानक गायब हो जाने के बाद नगर थाने की पुलिस ने लापता युवकों में विशाल के दोस्त संदीप को हिरासत में लेकर जब कड़ी पूछताछ की तो संदीप ने अपने स्वीकृति बयान में तीनों युवकों को ठिकाने लगाने की बातों का जिक्र करते हुए अयूब खान का नाम प्रकाश में लाया था।अयूब खान का नाम प्रकाश में आते हीं पुलिस ने संदीप सहित उसके स्वीकृति बयान के कॉपी के साथ साथ केस डायरी सिवान न्यायालय में न्यायाधीश के समक्ष प्रस्तुत किया था।जहां वरीय पुलिस पदाधिकारी के दिशा निर्देश के आलोक में नगर थाने की पुलिस ने अयूब खान का नाम पर्याप्त साक्ष्य के आधार पर अनुसंधान में तेजी लाते हुए अप्राथमिकी अभियुक्त बनाया।

अप्राथमिकी अभियुक्त बनाए जाने के बाद सिवान नगर थाना पुलिस ने अयूब खान की गिरफ्तारी के लिए एक पुलिस टीम का गठन किया।इसी दौरान जिला पुलिस तथा एसटीएफ टीम की संयुक्त कार्रवाई में परिवार सहित नूतन वर्ष 2022 के जश्न मना कर गंगटोक से अपने घर मुजफ्फरपुर लौट रहे अयूब खान को पूर्णिया से गिरफ्तार किया गया।अयूब खान को पूर्णिया से गिरफ्तार करने के बाद पुलिस टीम ने कड़ी सुरक्षा के बीच उन्हें सिवान लाई तथा रविवार को एसपी श्री शैलेश कुमार समेत अन्य पुलिस पदाधिकारी अयूब खान से सिवान जिले के जीरादेई थाना परिसर में घंटों पूछताछ की तथा कई जगह छापेमारी करने की भी बात पुलिस महकमे से उभर कर आई और इसी बीच सोमवार की दोपहर सिवान नगर थाना की पुलिस ने उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच सिवान न्यायालय तथा उनका विधिवत मेडिकल चेकअप हेतु सिवान सदर अस्पताल लाई।

मेडिकल चेकअप के बाद पुलिस उन्हें न्यायालय लेकर चली गई। में मौजूद न्यायाधीश ने उन्हें नगर थाने में दर्ज कांड में रिमांड करते हुए तीन युवकों के लापता मामले में उन्हें जेल भेज दिया।बहरहाल मामला चाहे जो हो लेकिन अयूब खान के जेल जाने के बाद संपूर्ण सिवान जिले में एक चर्चा का विषय बना हुआ है।लोग जितनी मुंह उतनी बातें करने से परहेज नहीं कर रहे हैं।उनके परिजन तथा उनके समर्थक उन्हें बेगुनाह बता रहे हैं।

अपनी राय दें!

Please enter your comment!
Please enter your name here